आप विधायक सोमदत्त पर चलेगा दंगा फैलाने का केस

नई दिल्ली: तीस हजारी की एक अदालत ने आप विधायक सोमदत्त के खिलाफ 2015 के विधानसभा चुनाव के प्रचार के दौरान दंगा फैलाने, एक व्यक्ति को गलत ढंग से रोकने तथा उसके साथ मारपीट करने के आरोप तय किए हैं। सोमदत्त ने आरोपों से इनकार किया और आगे मुकदमा लड़ने की बात कही। मेट्रोपोलिटन मेजिस्ट्रेट रूबी नीरज कुमार ने सदर बाजार इलाके से विधायक सोमदत्त के खिलाफ आरोप तय कर दिए।




अदालत ने अभियोजन पक्ष के साक्ष्य दर्ज करने के लिए मामले को 27 जुलाई की तारीख तय की है और शिकायतकर्ता राजीव राणा को समन जारी कि या है। इन अपराधों के लिए दोषी पाए जाने पर अधिकतम सात वर्ष की सजा हो सकती है। हांलाकि सोमदत्त को इस मामले में पहले ही जमानत मिल चुकी है। उनके खिलाफ दंगा करने, गलत ढंग से रोकने, जानबूझकर गंभीर चोट पहुंचाने तथा गैरकानूनी ढंग से एकत्र होने के आरोप तय किए गए हैं।

उत्तरी दिल्ली के गुलाबी बाग पुलिस थाने में 2015 में सोमदत्त के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई थी। आरोप लगाया गया था कि इलाके में प्रचार कर रहे विधायक और उनके करीब 50 समर्थक शिकायतकर्ता संजीव राणा के घर पहुंचे थे। शिकायत के अनुसार जब शिकायती राणा ने आपत्ति जताई तो विधायक ने कथित तौर पर बेसबॉल के बैट से उसके पैरों पर मारा और उनके समर्थक राणा को घसीटते हुए सड़क पर ले आए और उन्हें पीटने लगे जिससे उन्हें गंभीर चोट आई।