अखिलेश को मुख्यमंत्री बनाना जीवन की सबसे बड़ी भूल: मुलायम

289

लखनऊ। यूपी विधानसभा चुनाव से पहले समाजवादी पार्टी में मचा घमासान चुनाव के हार के बाद भी थमने का नाम नहीं ले रह है। गौरतलब है कि यूपी चुनाव में पार्टी को इस कलह का खामियाजा हार के रूप में भुगतना पड़ा है। इन सब के बावजूद एक बार फिर सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने अखिलेश के खिलाफ बयान देकर इस मुद्दे को नई हवा दे दी है। एक कार्यक्रम के दौरान मीडिया से मुखातिब होते हुए मुलायम सिंह यादव ने कहा कि मुझे अफसोस है कि मैंने अखिलेश को मुख्यमंत्री की कुर्सी सौप दी जिसका खामियाजा हमे चुनाव में हार के रूप में भुगतना पड़ा। साथ ही सपा-कांग्रेस गठबंधन को भी गलत बताते हुए मुलायम ने कहा कि जिस पार्टी ने मेरे खिलाफ साजिश रची उससे अखिलेश का मिल जाना समझ से परे था।




दरअसल मैनपुरी के जुनेसा गांव में एक प्रतिमा का अनावरण करने पहुंचे मुलायम सिंह यादव ने माना कि 2012 में अखिलेश यादव को सीएम बनाना उनकी भूल थी। उन्होंने कहा, ‘सीएम हमको बनना चाहिए था। अगर मैं मुख्यमंत्री होता तो बहुमत मिल जाता।’गठबंधन पर बोलते हुए मुलायम ने कहा कि मेरे मना करने के बावजूद अखिलेश यादव ने कांग्रेस के साथ गठबंधन किया। उन्होंने कहा, ‘हमारी जिंदगी बरबाद करने में कांग्रेस ने कोई कसर नहीं छोड़ी, कांग्रेस ने उन पर कई मामले दर्ज कराए और अखिलेश ने उसी कांग्रेस से गठबंधन किया। समाजवादी पार्टी जनता की गलती से नहीं खुद अपनी गलती से हारी है।’



मुलायम सिंह यादव ने भाई शिवपाल यादव के उस बयान का समर्थन किया जिसमें उन्होंने रामगोपाल यादव को ‘शकुनि’ करार दिया था। उन्होंने आरोप लगाया कि शिवपाल को विधानसभा चुनाव में हरवाने के लिए कोई कसर बाकी नहीं रखी गई और इस काम के लिए जमकर पैसा खर्च किया गया। समाजवादी सेक्युलर मोर्चा बनाने के सवाल पर मुलायन ने कहा कि ऐसा कुछ नहीं होने जा रहा, अगर शिवपाल ऐसा सोच भी रहे है तो मैं बात कर उन्हे समझा दूंगा।

In this article