बेहोशी की हालत में पड़ी मिली छात्रा, पिता ने लगाया हत्या की कोशिश का आरोप

167

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में एक छात्रा नौ दिन पहले बेहोशी की हालत में पाई गई थी, जिसे अस्पताल में भर्ती कराया गया और वह अभी कोमा में है। पुलिस इसे दुर्घटना मान रही है, जबकि छात्रा के पिता का मानना है कि उनकी बेटी की हत्या की कोशिश की गयी है। पुलिस छात्रा के पिता की लिखित शिकायत के बावजूद इसे दुर्घटना से ज्यादा कुछ मानने को तैयार नहीं है।




घटना आयुर्वेदिक कॉलेज की एक छात्रा की है जो नौ दिनों से कोमा में है और उसे एक अस्पताल में वेंटिलेटर पर रखा गया है। पुलिस का मानना है कि चूना भट्टी क्षेत्र में बन रहे अंडर ब्रिज के पास रचना घायल अवस्था में मिली थी। जिसे निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया और यह महज एक दुर्घटना का मामला है। जबकि रचना के पिता का कहना है कि मामला कुछ और ही है। उन्होंने बताया कि उनकी बेटी के अस्पताल में भर्ती होने की सूचना कुछ युवकों ने बेटी के ही मोबाइल से उन्हें दी थी। वे जब छतरपुर से यहां पहुंचे तो उन युवकों ने उन्हें बेटी की स्कूटी और मोबाइल फोन सौंपा। इन्हीं छात्रों में से एक ने 108 नंबर पर फोन करके एम्बुलेंस बुलाई थी और पुलिस में दुर्घटना की रपट दर्ज कराई थी। ये छात्र विभिन्न इंजीनियरिंग कॉलेजों में पढ़ाई करते हैं।

पड़ोसियों ने बताया कि घटना की रात लगभग तीन से चार बजे के बीच तीन लड़के एक बड़ा-सा ब्रीफ केस लेकर कमरे से निकले थे, मगर उस वक्त उनके साथ नहीं थी। अनुमान है कि उसी ब्रीफ केस में छात्रा को ले जाया गया होगा। उसके बाद वे तीनों युवक सुबह छह बजे दोबारा कमरे पर आए और ताला काटने लगे। जब उनसे पूछा गया तो उन्होंने छात्रा के दुर्घटना में घायल होने की बात कही। साथ ही ताला बदल दिया।

आगे पिता ने बताया, जब वे कमरे पर गए तो सामान फैला हुआ था, एक डिब्बे में पास्ता और भुनी हुई प्याज रखी थी। इससे लग रहा था कि बेटी उस वक्त खाने के लिए पास्ता बना रही होगी, जब उसके साथ वारदात हुई। मगर अगले दिन अस्पताल से घर पहुंचने पर हालात बदले थे, सब व्यवस्थित था। फैले हुए कपड़े सहेज के रख दिए गए थे। ऐसा इसलिए क्योंकि उन लड़कों ने नया ताला लगाया था, और सिर्फ दो चाबी ही उन्हें दी थी, एक अपने पास रख ली होगी। बाद में पिता ने ताला बदल दिया। पिता ने आगे बताया कि बेटी के एटीएम, पासबुक आदि के बारे में तीनों छात्रों से चर्चा की, तो उन्होंने वह भी लाकर उन्हें सौंप दिया। यह सब देखकर पिता का शक पक्का हो गया कि बेटी के साथ कोई अनहोनी हुई है। पिछले नौ दिनों से छात्रा एक निजी अस्पताल की गहन चिकित्सा इकाई में भर्ती है और वह वेंटिलेटर पर है।




पिता के अनुसार, छात्रा के माथे और कान के पीछे चोट है। जानकारों का मानना है कि कान के पीछे की चोट दुर्घटना में लगना आसान नहीं है। इसके पीछे कोई साजिश हो सकती है। पिता ने सोमवार को कोलार थाने में शिकायत दी, मगर पुलिस ने अब तक कोई शिकायत दर्ज नहीं की है। इतना ही नहीं छात्रा के कमरे के पास रहने वालों ने जांच करने गए मुंशी इमरान के सामने तीन लड़कों के ब्रीफकेस में कुछ ले जाने और फिर दो घंटे बाद ताला काटने की पुष्टि भी की। ये तीनों लड़के लगातार अस्पताल भी आते हैं। छात्रा के पिता ने पुलिस को तीनों लड़कों की तस्वीरें दिखाई, मगर पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की।

कोलार थाने के प्रभारी कुंवर सिंह मुकाती ने से कहा, छात्रा अपने एक मित्र के साथ मोटरसाइकिल पर थी, जो डिवाइडर से टकरा गई और दोनों घायल हो गए। जहां तक छात्रा के पिता और पड़ोसियों के बयान की बात है, उसी आधार पर पुलिस जांच कर रही है। छात्रा के साथ आश्रय नामक छात्र घायल हुआ था। वह धामनोद गया है उसे भी बुलाया गया है।

In this article