5 0

वाराणसी। आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक व दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि नोटबंदी कुल आठ लाख करोड़ का सुनियोजित घोटाला है। आम आदमी को अपने ही खाते से पैसे निकालने की इजाजत नहीं दी जा रही है। उन्होंने कहा कि...

वाराणसी। आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक व दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि नोटबंदी कुल आठ लाख करोड़ का सुनियोजित घोटाला है। आम आदमी को अपने ही खाते से पैसे निकालने की इजाजत नहीं दी जा रही है। उन्होंने कहा कि भाजपा नकली नोट छापने की मशीन है। यह न तो हिन्दुओं की पार्टी है और न मुसलमानों की। मोदी को प्रधानमंत्री बनाने में उत्तर प्रदेश की निर्णायक व महत्वपूर्ण भूमिका रही है। आगे विधानसभा चुनाव है। यहां की जनता को भाजपा को सबक सिखाना होगा।




मुख्यमंत्री केजरीवाल बुधवार को बेनियाबाग मैदान में नोटबंदी के खिलाफ आयोजित रैली को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि नोटबंदी ने आम आदमी का जीना दुश्वार कर दिया है। उद्योग- धंधे , रोजीरोजगार व कामधंधे चौपट हो रहे हैं। हजारों लोग बेरोजगार हो गये हैं। बनारस के बुनकर भुखमरी के कगार पर पहुंच गये हैं। मजदूरों को काम नहीं मिल रहा है। देश का ईमानदार आदमी लाइन में खड़ा है। उन्होंने कहा कि मोदी हमारे प्रधानमंत्री हैं, मालिक नहीं। नोटबंदी एक महाघोटाला है। उन्होंने कहा कि नोटबंदी से न तो कालाधन खत्म होगा और न ही भ्रष्टाचार। दो हजार के जाली नोट भाजपाइयों के साथ ही आतंकवादियों के हाथ सबसे पहले पहुंच गये हैं।




मुख्यमंत्री केजरीवाल ने मोदी से पूछा कि विदेशी बैंकों में बंद 80 लाख करोड़ का कालाधन कहां गया। कब लाकर जनता के खाते में जमा कराओगे। उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी वोट मांगने नहीं आयी है। वह नोटबंदी के खिलाफ आपका साथ मांगने आयी है। हम किसी भी सूरत में देश के धन को लूटने की इजाजत नहीं देंगे। आम आदमी प्रवक्ता व प्रदेश प्रभारी संजय सिंह ने कहा कि हमारी पार्टी कालेधन और भ्रष्टाचार के खिलाफ है। यदि मोदी की नीयत साफ होती तो हमारी पार्टी उसका समर्थन करती। उन्होंने कहा कि नोटबंदी की नीयत, नीति व क्रियान्यवन सबमें खोट व घोटाले छुपे हैं।

आप के पूर्वाचल संयोजक संजीव सिंह ने कहा कि बनारस के लोग तानाशाही सहन नहीं करते हैं। यहीं के लाल समाजवादी नेता राजनारायण ने इंदिरा की तानाशाही का करारा जवाब दिया था। हाजी मोहम्मद युनूस ने पूछा कि यदि देशहित में 1000 और 500 का नोट बंद करना जरूरी था तो 2000 के नोट क्यों चलाये जा रहे हैं? आप के युवा नेता सगुन त्यागी ने कहा कि जनता अच्छे दिन के वादों को खोज रही है। अच्छे दिन तो आये नहीं ,बुरे दिन नोटबंदी के माध्यम से थोप दिये गये हैं।

In this article

Join the Conversation