आप, आम आदमी पार्टी, अरविंद केजरीवाल, दिल्ली, मुख्यमंत्री, चुनाव आयोग, ईवीएम

दो मंत्रियों की फाइल केंद्र 10 दिन से दबाए बैठा है : केजरीवाल

132

नई दिल्ली। दिल्ली सरकार के पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा के आरोपों के बाद से ही लगातार चुप दिखाई दे रहे मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को अपनी चुप्पी तो तोड़ी लेकिन कपिल मिश्रा के आरोपों का कोई जवाब देने के बजाय उन्होंने केन्द्र सरकार पर हमला किया। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि दो मंत्रियों की फाइल पर केन्द्र 10 दिन से बैठा है। दिल्ली सरकार के कई काम रुके हैं। उन्होंने ट्वीट में केन्द्र से कहा कि आपकी हमसे दुश्मनी है, दिल्ली की जनता से तो बदला न लो। उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने भी इसी तरह का हमला कर केन्द्र पर निशाना साधा।




दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार के गठन के बाद से ही मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल लगातार केन्द्र सरकार पर हमला बोलते रहे हैं। हाल ही में उन्हीं की कैबिनेट के मंत्री कपिल मिश्रा द्वारा लगाए गए भ्रष्टाचार के आरोपों के बाद से केजरीवाल चुप्पी साधे हुए थे और न तो मिश्रा के आरोपों का जवाब दे रहे थे और न ही वह पिछले कुछ दिन से केन्द्र सरकार पर हमला बोल रहे थे। मंगलवार को केजरीवाल ने अचानक चुप्पी तोड़ी और एक ट्वीट कर दो नए मंत्रियों की नियुक्ति के मामले में केन्द्र सरकार पर निशाना साधा। केजरीवाल व उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया दोनों ने ट्वीट कर केन्द्र सरकार पर हमला किया।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दोपहर 1.59 बजे अपने ट्वीट में कहा कि दो मंत्रियों की फाइल पर केनद्र 10 दिन से बैठा है। दिल्ली सरकार में कई काम रुके हैं,आपकी हमसे दुश्मनी है, दिल्ली की जनता से तो बदला मत लो। इससे पूर्व 1.45 बजे उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने इसी तरह का ट्वीट किया। उन्होंने अपने ट्वीट में कहा कि दिल्ली में 2 नए मंत्री की मंजूरी की फाइल 10 दिन से केन्द्र सरकार लेकर बैठी है। अब तो कपिल का धरना और मीडिया की नौटंकी खत्म हो गई, अब तो कर दो। अपने ट्वीट के बाद शाम को पत्रकारों से वार्ता करते हुए भी सिसोदिया ने केन्द्र सरकार की आलोचना की।




सिसोदिया ने कहा कि दो मंत्रियों की नियुक्ति की फाइल 6 मई को उपराज्यपाल के माध्यम से केन्द्र सरकार को भेजी गई थी। पिछले सोमवार को इस फाइल पर कुछ स्पष्टीकरण मांगे गये थे जिनके साथ तत्काल ही फाइल वापस भेज दी गई थी लेकिन इस फाइल पर आज तक केन्द्र ने मंजूरी नहीं दी है। उन्होंने आरोप लगाया कि केन्द्र सरकार संविधान की अवहेलना कर दिल्ली सरकार को पंगू बनाना चाहती है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री अपने मंत्रिमंडल में किसको रखेंगे यह मुख्यमंत्री का अधिकार है लेकिन केन्द्र सरकार ने यह फाइल क्यों रोक रखी है।

In this article