उज्मा की वतन वापसी के लिए पाकिस्तान के साथ संपर्क में है भारत

नई दिल्ली: भारत उस 20 वर्षीय भारतीय नागरिक की सुरक्षित स्वदेश वापसी के लिए पाकिस्तान के साथ समन्वय बनाए हुए है जिसने इस्लामाबाद की एक अदालत को बताया कि उसे एक पाकिस्तानी नागरिक के साथ शादी करने के लिए बंदूक तानकर मजबूर किया गया तथा हिंसा एवं यौन उत्पीड़न का सामना करना पड़ा। इस महिला की पहचान उज्मा के रूप में हुई है। उसने इस्लामाबाद अदालत में अपने पति ताहिर अली के खिलाफ याचिका दायर की है। उसने अपने पति पर प्रताड़ना और धमकाने का आरोप लगाया है। महिला ने मजिस्ट्रेट के समक्ष अपना बयान रिकॉर्ड कराया है। अदालत के एक अधिकारी नेे बताया कि महिला ने मजिस्ट्रेट से कहा कि वह शादी के लिए नहीं, बल्कि अपने रिश्तेदारों से मिलने के लिए पाकिस्तान आई थी।




उज्मा ने कहा कि मुझे बंदूक के बल पर शादी के लिए मजबूर किया गया और मेरे आव्रजन कागजात छीन लिए गए। कड़ी सुरक्षा के बीच अदालत में लाई गई उज्मा ने यह भी आरोप लगाया कि ताहिर ने उसके खिलाफ हिंसा की और यौन उत्पीड़न किया। उन्होंने आगे कहा कि वह भारतीय उच्चायोग नहीं छोड़ना चाहती। अदालत ने मामले की सुनवाई 11 जुलाई तक के लिए स्थगित कर दी। शादी कराने वाले मौलवी हूमायूं खान को भी अगली सुनवाई पर समन किया गया है। महिला ने कहा है कि वह भारतीय उच्चायोग परिसर छोड़कर तब तक नहीं जाना चाहती है जब तक उसे सुरक्षित भारत नहीं भेज दिया जाता। उधर, नई दिल्ली में विदेश मंत्रालय ने सोमवार को कहा कि पाकिस्तान में एक शख्स पर बंदूक दिखाकर नशीले पदार्थ का सेवन कराने, प्रताड़ित करने और निकाहनामा पर जबरदस्ती हस्ताक्षर कराने के आरोप लगाने वाली उज्मा की सुरक्षित वापसी के लिए भारत सरकार पाकिस्तान के विदेश कार्यालय के साथ तालमेल से काम कर रही है।




विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गोपाल बागले ने कहा कि महिला के भाई ने विदेश मंत्री से मुलाकात की और अपनी बहन को जल्द से जल्द बचाने के लिए सरकार की मदद मांगी। उन्होंने यह भी कहा कि युवती ने आज स्थानीय कानूनी जरूरतों के अनुरूप इस्लामाबाद की न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत में बयान दर्ज कराया। उसने 5 मई को इस्लामाबाद में भारतीय उच्चायोग में शरण मांगी थी। बागले ने कहा कि महिला ने अपने बयान में कहा कि उसे पाकिस्तान में वहां के एक शख्स ने नशीले पदार्थ का सेवन कराया, दुर्व्यवहार किया, मानसिक और शारीरिक रूप से प्रताड़ित किया।

वह शख्स उसे मलेशिया में मिला था और उसने पाकिस्तान में अपने घर आने का न्योता दिया। महिला ने अपने वीजा के लिए नई दिल्ली में पाकिस्तानी उच्चायोग को एक आवश्यक स्पांसरशिप पत्र दिया। उन्होंने कहा कि महिला ने यह भी कहा कि उसी शख्स ने बंंदूक दिखाकर उससे निकाहनामे पर दस्तखत भी कराए। खबरों के मुताबिक उज्मा के पति ने उससे इस्लामाबाद स्थित भारतीय उच्चायोग में सोमवार सुबह मुलाकात की थी लेकिन वह अदालत में मौजूद नहीं था।

Loading...