जानिए यूपी एटीएस ने कैसे पकड़ा आईएस एजेंट आफताब को

लखनऊ। सैन्य खुफिया इकाईयों के जरिए ही यूपी एटीएस की टीम आफताब अली तक पहुंची थी। गत 25जनवरी को लखनऊ, हरदोई व सीतापुर में अवैध सिम बॉक्स चालने वाले गिरोह के पर्दाफाश के दौरान ही आफताब संदिग्ध के रूप में सामने आया था। आफताब के मोबाइल नंबरों पर पाकिस्तान से कॉल आया करती थी।




जिसके साक्ष्य एटीएस ने जुटा लिये थे। लेकिन कुछ साक्ष्य और मिलने पर बुधवार को फैजाबाद पहुंचकर आफताब को धर दबोचा।आईएसआई एजेंट आफताब अली सेना के नंबरों पर पाकिस्तान से कॉल कर जानकारी हासिल करने की कोशिश के संबंध में यूपी एटीएस को पूर्व में मिलिट्री इंटेलीजेंस के अधिकारियों द्वारा सूचना दी गयी थी। एटीएस द्वारा लगातार निगरानी के बाद आफताब को पकड़ा गया था। जिसके बाद एटीएस मुम्बई में साक्ष्यों के आधार पर दो अन्य एजेंटों अल्ताफ अली तथा जावेद की गिरफतारी की गयी है।

छानबीन में सामने आया हैं कि गिरफ्तार आफताब अली पहली बार पाकिस्तान जाने के लिए दिल्ली पाकिस्तानी दूतावास वीजा लेने के संबंध में गया था। जहॉ इसका बीजा फार्म तीन बार रिजेक्ट हो गयाा। उसके बाद उसने चौथी बार वीजा फार्म अप्लाई किया। तो दिल्ली में आफताब को मेहरबान अली मिला।




जिसने यह कहा कि तुम मेरे लिए काम करों, मैं तुम्हे पाकिस्तान का वीजा दिला दूंगा। मेहरबान अली के कहने पर फैजाबाद सेना का कुछ वीडियो एवं फोटो दिया, जिस पर मेहरबान अली ने वीजा पास करा दिया।