ख़र्च बचाने के लिए पत्नी के साथ पति ने किया वह काम जिसे सुनकर हैरान रह जायेंगे आप

211

नई दिल्ली: एक सिरफिरे ने पत्नी के नाती पर होने वाले खर्च से छूटकारा पाने के लिए मासूम बच्चे को अगवा कर एक दोस्त के हवाले कर दिया। पुलिस ने सिरफिरे को गिरफ्तार कर अगवा कर बच्चे को यूपी के आजमगढ़ से सकुशल मुक्त करा लिया है। पुलिस अभी उस दोस्त का पता नहीं लगा पाई है, जो मासूम बच्चे को दिल्ली से यूपी लेकर गया था। बहरहाल पुलिस टीमें सह आरोपी की तलाश में दिल्ली तथा यूपी में गहन छापेमारी कर रही है।




पुलिस सूत्रों के मुताबिक 25 मई को निहाल विहार इलाके से दो साल का एक मासूम बच्चे के अगवा होने की शिकायत पुलिस से की गई थी। बच्चे की मां संतोष देवी ने थाने पहुंचकर इस बाबत रिपोर्ट दर्ज कराई थी, जिसके बाद आईपीसी की धारा 363 के तहत मामला दर्ज कर एसएचओ शरदचंद ने जांच प्रारंभ कर दी। जांच कारवाई में पता चला कि संतोष देवी ने कुछ माह पहले ही राजस्थान के भरतपुर के रहने वाले अवतार सिंह से दूसरी शादी की है। उसके पूर्व पति की तीन साल पहले मौत हो गई थी, जबकि पूर्व पति से उसे दो साल का बेटा और एक नाबालिग बेटी भी है।

उसने पुलिस को बताया कि दूसरी शादी के बाद जब वह दोनों बच्चों को भरतपुर ले जाने लगी तब उसके पति अवतार सिंह ने इसका विरोध किया था, जिसके बाद उसने दोनों बच्चों को अपनी मां राजमति के हवाले कर दिया था। इस जानकारी पर जब राजमति को थाने बुलाकर उससे पूछताछ की गई तब यह पता चला कि इस महिला ने भी हाल में ही दूसरी शादी अशोक नामक व्यक्ति से की है और अशोक पिछले एक-दो दिन से लापता है। इस खुलासे से पुलिस को अशोक पर शक हुआ और पुलिस ने उसे इलाके से ही धर दबोचा।




पुलिस पूछताछ में अशोक ने सभी आरोपों से इनकार कर दिया। लेकिन बाद में पुलिस के सख्ती करने पर उसने बताया कि बच्चे को अगवा कर वह आजमगढ़ के रहने वाले अपने एक दोस्त हरिराम को दे आया है। उसने यह दावा किया कि राजमति से दूसरी शादी के बाद वह नहीं चाहता था कि उसकी पत्नी के नाती तथा नातिन पर वह कुछ खर्च करें। उसने राजमति को कई बार समझाया कि वह दोनों बच्चों को अपनी बेटी के हवाले कर दे, लेकिन जब वह नहीं मानी तब उसने हरिराम को दिल्ली बुलाकर बच्चा उसके हवाले कर दिया था।

इस जानकारी पर एएसआई सुरेन्द्रं तथा हवलदार गोपाल आजमगढ़ गए और रविवार को अगवा बच्चा सकुशल मुक्त कराकर दिल्ली ले आए। हालांकि सह आरोपी हरिराम पुलिस की दबिश पड़ने से पहले ही फरार हो गया। पुलिस ने बताया कि यह पता चला है कि हरिराम निसंतान है। आशंका है कि उसने अशोक से बच्चे का सौदा किया था। हालांकि अशोक ने बच्चे का सौदा करने से इनकार किया है।

In this article