किसानों का पलायन रोकने की होगी कोशिशः ब्रम्हचारी

बांदा। उत्तर प्रदेश में बांदा जिले की नरैनी विधानसभा सीट से भाजपा विधायक राजकरन कबीर के प्रतिनिधि एनके ब्रम्हचारी ने सोमवार को कहा कि ‘सूखे की मार झेल रहे किसानों का पलायन रोकने की हर संभव कोशिश की जाएगी और जिस क्षेत्र में सरकारी नलकूप सफल नहीं है, वहां सिंचाई के अन्य संसाधन की व्यवस्था कराई जाएगी।




विधायक प्रतिनिधि मंगलवार को अपने नरैनी स्थिति कार्यालय में मीडियाकर्मियों से मुखतिब थे। उन्होंने संवाददाताओं को संबोधित करते हुए कहा कि ‘नरैनी क्षेत्र में पूर्ववर्ती राज्य सरकारों ने न तो नहरों की सफाई कराई और न ही अन्य संसाधन ही विकसित किए, जिससे सूखे की मार झेल रहे किसानों के सामने पलायन के अलावा कोई दूसरा रास्ता नहीं बचा है। अब सिंचाई के संसाधन विकसित उनका पलायन रोका जाएगा।’

पेयजल संकट के बारे में उन्प्होंने बताया कि ‘क्षेत्र के विभिन्न गांवों को जल संकट से निजात के लिए अब तक 280 नए हैंड़पंप लगवाने और करीब 50 नलों के रिबोर की सूची संबंधित अधिकारी को उपलब्ध करा दी गई है। शासन की मंशा के अनुरूप 30 मई तक सभी हैंड़पंप लग जाने की उम्मीद है।’ ब्रम्हचारी जिला स्तर में जमें कई वरिष्ठ अधिकारियों की कार्य प्रणाली पर उंगली भी उठाई।




हालांकि उन्होंने अधिकारियों पर सीधे आरोप तो नहीं जड़ा, लेकिन उनकी खिन्नता से साफ जाहिर था कि अब भी अधिकारी अपनी आदत में सुधार नहीं कर सके।’ बकौल ब्रम्हचारी, ‘छोटी-छोटी समस्याएं भी कार्यालय में लगातार आने से महसूस होता है कि अधिकारी पीड़ित की बात को तवज्जव नहीं देते।’ एक सवाल पर उन्होंने कहा कि ‘अधिकारियों का स्थानांतरण नहीं कराया जाएगा, बल्कि उनके तौर-तरीके बदले जाएंगे।’

बांदा से आर जयन की रिपोर्ट