कोलकाता, शाही इमाम, मौलाना सैयद नूरूर रहमान बरकाती, पश्चिम बंगाल, केंद्र सरकार

कोलकाता के शाही इमाम बरकाती ने अपने वाहन से हटाई लाल बत्ती

94

कोलकाता| टीपू सुल्तान मस्जिद के शाही इमाम मौलाना सैयद नूरूर रहमान बरकाती ने अपने वाहन से लाल बत्ती हटा दी है| लाल बत्ती हटाने के बाद बरकाती ने कहा कि इसको लेकर मुझ पर कोई राजनीतिक दबाव नहीं था| मुझ पर कोई राजनीतिक पार्टी दबाव कैसे बना सकती है? मैं शाही इमाम हूं और कानून का पालन करूंगा|




बता दें कि इससे पहले बरकाती ने अपने वाहन से लाल बत्ती हटाने से इंकार कर दिया था| उन्होंने कहा था, “मैं एक धार्मिक नेता हूं और कई दशकों से लाल बत्ती का इस्तेमाल कर रहा हूं| मैं केंद्र के आदेश का पालन नहीं करता हूं| मुझे आदेश देने वाले वे होते कौन हैं? बंगाल में सिर्फ राज्य सरकार का आदेश ही प्रभावी है| मैं लाल बत्ती का इस्तेमाल करूंगा| बंगाल में कोई इसे नहीं हटा सकता|”

आरएसएस एजेंट हैं शाही इमाम बरकाती

पश्चिम बंगाल सरकार में मंत्री और सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के अल्पसंख्यक समुदाय के अहम प्रतिनिधि सिद्दिकुल्ला चौधरी ने शनिवार को टीपू सुल्तान मस्जिद के शाही इमाम मौलाना सैयद नूरूर रहमान बरकाती को आरएसएस का एजेंट कहा| चौधरी ने कहा कि बरकाती जिहाद छेड़ने और दूसरे भड़काऊ बयान देकर संघ परिवार को हथियार मुहैया करा रहे हैं|

चौधरी ने कहा, “बरकाती आरएसएस के एजेंट हैं| वह इस तरह की बयानबाजी कर आरएसएस को हथियार मुहैया करा रहे हैं|” बरकाती के ‘पाकिस्तान के लिए लड़ने’ वाले बयान पर चौधरी ने एक वक्तव्य जारी कर कहा, “हम भारतीय हैं| अगर कोई भारतीय नागरिक पाकिस्तान का पक्ष लेता है तो उसे पाकिस्तान चले जाना चाहिए|”



ज्ञात हो कि बरकाती ने एक संवाददाता सम्मेलन में धमकी भरे अंदाज में कहा था कि अगर भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित किया गया तो वह जिहाद छेड़ देंगे| इसके अलावा बरकाती ने अपनी कार से लाल बत्ती हटाने से भी इनकार कर दिया और कहा कि ब्रिटिश सरकार द्वारा शाही इमाम को यह इज्जत मिली थी|

In this article