कोरी समाज के खिलाफ हो रही घटनाओं से खफा हैं भाजपा नेत्री

बांदा। विधान सभा चुनाव संपन्न होने के बाद से कोरी समाज की महिलाओं के खिलाफ लगातार हो रही खिनौनी घटनाओं से भाजपा नेत्री और जिला पंचायत सदस्य मीना भारती बेहद खफा हैं। दुष्कर्म, छेड़छाड़ और किशोरियों के अपहरण के मामले में पुलिस और भाजपा नेतृत्व को आड़े हाथों लेते हुए उन्होंने गुरुवार को सवाल किया कि ‘कोरी बिरादरी के ही खिलाफ ऐसी मुहिम क्यों चलाई जा रही है और बुंदेलखंड़ के इस बिरादरी के पांच विधायक चुप क्यों हैं?

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से बबेरू क्षेत्र की जिला पंचायत सदस्य और नरैनी सुरक्षित विधानसभा सीट से टिकट की दावेदार रहीं मीना भारती ने विधानसभा चुनाव संपन्न होने के बाद गुरुवार को पहली बार भाजपा नेतृत्व और बांदा जिले की पुलिस पर हमलावर हुई हैं। उनका कहना है कि ‘चुनाव बाद अन्य दलित समाज के खिलाफ कोई भी घिनौनी घटना सामने नहीं आई है, जबकि कोरी समाज की महिलाओं के साथ दुष्कर्म और किशोरियों के साथ छेड़छाड़ की कई घटनाएं उजागर हो चुकी है। अभियोग दर्ज होने के बाद भी पुलिस ने नामजद आरोपियों को गिरफ्तार करने की जरूरत नहीं समझी।’




उन्होंने बताया कि ‘12 मार्च को बिसंड़ा थाने के तेन्दुरा गांव में इस बिरादरी की महिला के साथ दुष्कर्म हुआ था, पीडि़त परिवार ने गिरफ्तारी की मांग को लेकर अनशन तक किया। फिर भी पुलिस ने गिरफ्तारी की ओर कदम नहीं बढ़ाया, अलबत्ता पीडि़त महिला के पति को गांव से पलायन करना पड़ा है।’ भाजपा नेत्री ने कहा कि ‘नरैनी थाना के बेलापुरवा-मोतियारी और खरौंच गांव में अलग-अलग तिथियों में कोरी बिरादरी की किशोरियों के साथ दुष्कर्म के कोशिश की घटनाएं घटी, दोनों मामलों में मुकदमा दर्ज है। यहां भी खरौंच गांव का पीडि़त परिवार गांव छोड़ चुका है, लेकिन उसे पुलिसिया संरक्षण नहीं मिला।’




भाजपा नेत्री मीना भारती ने ताजी घटना का जिक्र करते हुए बताया कि ‘कालिंजर थाना क्षेत्र के चिल्लहा गांव की एक किशोरी का अपहरण कर उसे बेंच लिया गया है। जिस महिला से जरिए घटना को अंजाम दिया गया है, पुलिस उसकी आदत से भलीभांति परचित है। पुलिस अब तक न तो नाबालिग लड़की को बरामद कर सकी और न ही उस महिला के खिलाफ ही कोई कार्रवाई की है।’ मीना ने पुलिस और अपने पार्टी के अलावा बुंदेलखंड़ की सुरक्षित सीटों से जीते कोरी बिरादरी के पांच विधायकों से सवाल किया है कि ‘आखिर अन्य दलित समुदाय की महिलाओं के साथ होने वाली घटनाओं में विराम लग सकता है तो कोरी समाज के खिलाफ ताबड़तोड़ घिनौनी घटनाएं क्यों हो रही हैं?’ उन्होंने कहा कि ‘नौ जून को कबीर आश्रम भरखरी में कबीर जयंती मनाने के बाद यह मुद्दा समाज के लोगों के समक्ष जोर से उठाया जाएगा और असमाजिक तत्वों के खिलाफ जंग की शुरुआत होगी।’

बाँदा से आर जयन की रिपोर्ट

Loading...