मासूम बच्ची को ऑटो से बाहर फेक मां से किया गैंगरेप

151

गुड़गांव। पड़ोसियों से चल रहे झगड़े से अपनी जान बचाकर 8 महीने की बच्ची को लेकर मायके जा रही महिला से दरिंदगी का मामला सामने आया है। आरोपी ऑटो ड्राइवर ने महिला के हाथ से 8 महीने की बच्ची छीनकर बाहर फेंक दिया। बच्ची का सिर सड़क पर टकराया और उसकी मौके पर ही मौत हो गई। पीड़िता महिला ने सोमवार को थाने में शिकायत दर्ज कारवाई ऑटो ड्राइवर ने अपने दोस्तों एक साथ मिलकर उसके साथ गैंगरेप भी किया।



पुलिस के मुताबिक महिला अपने पति के साथ गांव बासकुसला की रहने वाली है। 29 मई की रात किसी बात को लेकर पड़ोसी से पति का झगड़ा हो गया था। रात को पति के ड्यूटी जाते ही पड़ोसियों ने दोबारा झगड़ा शुरू कर दिया। इस पर महिला अपनी 8 महीने की बच्ची को लेकर मायके जाने के लिए आईएमटी चौक आ गई। यहां पर उसने ट्रक से लिफ्ट ली। ट्रक चालक ने उससे छेड़छाड़ की कोशिश की तो वह खेड़कीदौला टोल के पास उतर गई। इसके बाद उसने टोल से ऑटो पकड़ा जिसमें ऑटो में तीन युवक पहले से मौजूद थे।

यह है पूरा मामला

महिला ने बताया ऑटो में बैठते ही उनलोगों ने मुझे छेड़ना शुरू कर दिया मैं बुरी तरह से डर गई। मेरी गोद में बैठी 8 महीने की बच्ची घबराकर रोने लगी। उनलोगों ने मेरी बच्ची को मुझसे छीनकर ऑटो से बाहर फेंक दिया। इसके बाद उन्होंने मेरा रेप किया और वहां से भाग गए। किसी तरह महिला मायके पहुंची और देर रात आईएमटी थाने में शिकायत दर्ज कराई। पुलिस ने अज्ञात युवकों के खिलाफ हत्या का केस दर्ज कर लिया है। दो दिन बाद उसने डरते-डरते पति को रेप की बात बताई इसके बाद केस में गैंगरेप की धारा जोड़ी गई।

पीड़िता के परिजनों का आरोप है कि शिकायत देने पर पहले दिन पुलिस ने मामूली छेड़छाड़ मानकर बच्ची की मौत का ही केस दर्ज किया। महिला बार-बार थाने के चक्कर काटती रही लेकिन गैंगरेप का मामला दर्ग ही नहीं किया गया। बाद में मामला आला अधिकारियों के पास पहुंचने पर रविवार को गैंगरेप की धारा जोड़ी गई।

बताया जा रहा है कि मामले को दबाने का प्रयास किया गया। 29 मई को FIR दर्ज की गई। महिला जब पति के साथ पुलिस स्टेशन पहुंची और उसने आला अधिकारियों से बातचीत के बाद मामले को गंभीरता से लिया गया।

In this article