Home खेल राजनीति बिज़नेस तकनीक मूवी-मसाला दुनिया जीवन मंत्रा क्षेत्रीय शिक्षा पर्दाफाश
ENGLISH
ELECTION 2014


सतीश चंद्र मिश्र ने ब्राह्मणों के नाम पर सिर्फ अपने परिवार वालों या नाते रिश्तेदारों का ही भला किया:राजेन्द्र चौधरी



Published by: RK Mishra
Published on: Sun, 07 Jul 2013 at 13:40 IST
लखनऊ:समाजवादी पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता राजेन्द्र चौधरी ने कहा है कि बसपा राज के पॉच सालों में हुई जबर्दस्त लूट और घोटालों की जॉच में पूर्व मुख्यमंत्री मायावती सहित उनके तमाम मंत्रिमंडलीय सहयोगी फंसे हुए हैं। कुछ जेल में हैं और कुछ के जेल जाने की तैयारी है। ऐसे में अपनी जान बचाने के लिए शक्ति प्रदर्शन का झूठा तमाशा आज ब्राह्मण भाईचारा सम्मेलन के नाम पर किया गया, जो हर दृष्टि से विफल रहा है। सम्मेलन में ब्राह्मण तो दिखाई नहीं दिए, कुुर्सियॉ भरने और इज्जत बचाने के लिए बसपा प्रत्याशी यहॉ वहॉ से भीड़ ले आए। बसपा की धोखाधड़ी की राजनीति की इससे कलई खुल गई है।

बसपा के इस कथित भाईचारा सम्मेलन में आय से अधिक संपत्ति की आरोपी बसपा अध्यक्ष के अलावा जो नेता मंच पर दिखे वे सब सत्ता का दुरूपयोग कर अवैध कमाई करने के आरोपी हैं। सम्मेलन की अध्यक्षता कर रहे अधिवक्ता ने ब्राह्मणों के नाम पर सिर्फ अपने परिवार वालों या नाते रिश्तेदारों का ही भला किया। सम्पूर्ण ब्राह्मण समाज बुरी तरह उनके द्वारा ठगा गया यह बात किसी ब्राह्मण को बताने की जरूरत नहीं।

बसपा सुप्रीमों का लिखित भाषण भी घोर निराशाजनक था। उसमें वे वही सब आरोप दुहराती रहीं जो वे समाजवादी पार्टी सरकार के खिलाफ पहले दिन से ही कहती रहीं हैं। उन्हें अपने भाषण में वैसे भी ज्यादा मेहनत करने की जरूरत नहीं पड़ती है, क्योंकि अपने समय के भय, आतंक, भ्रष्टाचार व विकास ठप्प होने, हर वर्ग के उत्पीड़न की घटनाओं के पुराने पन्ने ही उनके काम आ जाते हैं। संविधानसम्मत, बहुमत से निर्वाचित, उप्र सरकार को हटाकर राष्ट्रपति शासन की असंवैधानिक मॉग करके मायावती संविधान निर्माता बाबा साहेब अंबेडकर का भी अपमान कर रही हैं।

पूर्व मुख्यमंत्री के भाषण की सबसे उल्लेखनीय बात यह रही कि वे एक सांस में केन्द्र की यूपीए और कांग्रेस सरकार पर हर मामले में फेल होने, मंहगाई बढ़ाने और भ्रष्टाचार का आरोप लगा गई और दूसरी सांस में जनता को यह भी बता गई कि कांग्रेस ने पिछले 50 सालों में जो (अनर्थ) किया है, वह केन्द्र सरकार में आने पर 5 साल में करके दिखा देंगी। एक तरफ वे सर्वजन और ब्राह्मणों की भलाई की बात करती रहीं तो दूसरी तरफ वे प्रोन्नति में आरक्षण को लागू करने को भी प्रतिबद्ध दिखीं। उनकी यह विरोधाभासी बयानबाजी सिर्फ जनता को बरगलाने और राजनीतिक वातावरण को दूषित करने के लिए है। एक मायावती ने इतने घोटाले कर दिए और दूसरी भी कहीं पैदा हो गई तो देश में लोकतंत्र ही तबाह हो जाएगा।

उत्तर प्रदेश के मतदाता अब इतने समझदार हो गए है कि वे बसपा के गोरखधंधे में फिर नहीं फंसेगे। अपने शासन काल में मायावती कभी किसी दलित से नहीं मिली, मुस्लिमों और ब्राह्मणों को पग-पग पर अपमानित किया गया। विकास कार्यो के मद का पैसा पार्को, स्मारकों और पत्थरों में लगा दिया गया। खजाने की रकम से अपनी प्रतिमाएं बनवाकर लगवा दीं। जनता के इलाज के पैसों की लूट मच गई । पूर्व मुख्यमंत्री अपने शान शौकत में डूबी रहीं। समाजवादी पार्टी की सरकार बनते ही मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि अब जनता का पैसा जनता के हित में लगेगा, पत्थरों पर नहीं। उन्होंने विकास का नया एजेन्डा दिया है। मुलायम सिंह यादव ने उप्र की सरकार को देष की सबसे अच्छी सरकार बताया है और उसके कामकाज की प्रशंसा की है। अभी डेढ़ साल भी नहीं हुए कि समाजवादी पार्टी सरकार ने किसानों, नौजवानों, मुस्लिमों और छात्र-छात्राओं के हित में तमाम सराहनीय निर्णय लिए हैं।
PHOTO GALLERIES
Pictures: Holi celebration at Pardaphash office
Indonesia Fashion Week 2014 in Jakarta
Success party of television serial Balika Vadhu
Promotion of film Queen
Absolut Elyx party hosted by the Suchitra Pillai
Announcement of Goa Carnival 2014
Supriya Keshari in special Valentine`s Day Theme Photo Shoot
Photoshoot of Tanisha Singh to show her support to Rahul Gandhi
`Qubool Hai` shooting in Agra
Salman Khan visits Siddhivinayak Temple during the first edition of Little Hearts Marathon
Photoshoot of Meghna Patel to show her support to Narendra Modi
Bollywood celebs at Zee Cine Awards 2014
`The Bodywear International Trade Expo-2014`
Tanisha Singh photo shoot
Katrina Kaif launches new hair care range 6 Oil Nourish
>>
Videos

Related Stories:-


Opinion Polls
क्या सुब्रत राय की गिरफ़्तारी से सहारा परिवार की छवि धूमिल हुई है ?
हाँ
नहीं
पता नहीं

Pardaphash name, logo and all associated elements ® and © 2011 Mahakaal News Management Pvt. Ltd.
All rights reserved. Pardaphash and the Pardaphash logo are registered marks of Mahakaal News management Pvt. Ltd.
Valid XHTML 1.0 Transitional