अखलाक ने अपने हिंदु दोस्त को की थी अंतिम कॉल

ग्रेटर नोएडा| दादरी हत्याकांड में मारे गए अधेड़ मोहम्मद अखलाक ने अंतिम कॉल अपने हिंदु दोस्त को की थी। अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, अखलाख ने अपने बचपन के दोस्त मनोज सिसौदिया को अंतिम कॉल करके मदद मांगी थी। अखलाख ने अपने दोस्त को कॉल करके कहा था ‘मनोज हम खतरे में हैं। पुलिस को फोर्स भेजने के लिए कह दो।’

रिपोर्ट के मुताबिक, सिसौदिया का घर अखलाख के घर से 500 मीटर की दूरी पर है। मनोज ने तुरंत पुलिस को घटना की जानकारी दी और अखलाख के घर की तरफ भागा। रिपोर्ट में मनोज के 15 मिनट में अखलाक के घर पहुंचने की बात कही गई है और तब तक पुलिस भी आ चुकी थी। लेकिन, तब तक लोगों ने अखलाख को पीट-पीट कर मार डाला था। सिसौदिया को इस बात का गहरा दुख है कि वह अपने बचपन के दोस्त मोहम्मद अखलाख को भीड़ से नहीं बचा पाया। सिसौदिया का कहना है कि गांव में हिंदु और मुसलमान लोग शांति से रहते आ रहे थे। इससे पहले मुसलमानों ने गांव में इस तरह की वारदात का सामना नहीं किया था।

पुलिस के मुताबिक, अखलाख के कॉल रिकॉर्ड से यह बात सामने आई है कि उसने अंतिम कॉल मनोज सिसौदिया को की थी। मनोज गांव में ही किराने की दुकान चलाता है और अखलाख के घर से महज 500 मीटर की दूरी पर रहता है। मनोज का कहना है कि अखलाक ने फोन कर कहा था ‘मनोज भाई, हम खतरे में हैं। किसी तरह पुलिस को फोन करके फोर्स बुलवा दो।’ यही अखलाख के अंतिम शब्द थे|