अदालत ने मनमोहन सिंह को राहत देते हुए खारिज की मधु कोडा की याचिका

नई दिल्ली। कोयला ब्लॉक घोटाले से जुड़े एक मामले में सीबीआई की एक विशेष अदालत ने शुक्रवार को पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के खिलाफ दायर की गई उस याचिका को खारिज कर दिया है जिसमें उन्हे आरोपी बनाए जाने की मांग की गई थी।

मिली जानकारी के अनुसार, विशेष न्यायाधीश भरत पाराशर ने झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा की वह याचिका को खारिज कर दी, जिसमें झारखंड के अमरकोंडा मुर्गादंगल कोयला ब्लॉक आवंटन मामले में मनमोहन सिंह और अन्य को सम्मन करने की मांग की गई थी।

आपको बता दें कि कोयला ब्लॉक आवंटन का यह मामला जिंदल ग्रुप ऑफ इंडस्ट्रीज के स्वामित्व वाली कंपनियों की कथित संलिप्तता से संबंधित है।

मालूम हो कि झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा ने सीबीआई अदालत में याचिका दायर करते हुए मांग की थी कि इस मामले में मनमोहन सिंह को भी आरोपी के रूप में तलब किया जाये। मधु कोडा खुद इस मामले में आरोपी हैं। उनकी इस याचिका पर विशेष सीबीआई न्यायाधीश भरत पाराशर ने 28 सितंबर को आदेश सुरक्षित रखा था।

इससे पहले सीबीआई ने याचिका का विरोध करते हुए कहा था कि ऐसा भी कोई सबूत उपलब्ध नहीं है, जो संकेत भी दे सके कि पूर्व प्रधानमंत्री ऐसी किसी साजिश में शामिल थे, जिसके तहत नवीन जिंदल समूह फर्मों को कोयला ब्लॉक आवंटित किए गए।

उधर मधु कोडा की ओर से अदालत के समक्ष तर्क पेश किया गया था कि सीबीआई यह दिखाने की कोशिश कर रही है कि पूरी प्रक्रिया में तत्कालीन प्रधानमंत्री की कोई संलिप्तता नहीं है।