आतंकियों की खैर नही, सीमा पर लगेंगी रिमोट कंट्रोल बंदूकें

%e0%a4%86%e0%a4%a4%e0%a4%82%e0%a4%95%e0%a4%bf%e0%a4%af%e0%a5%8b%e0%a4%82 %e0%a4%95%e0%a5%80 %e0%a4%96%e0%a5%88%e0%a4%b0 %e0%a4%a8%e0%a4%b9%e0%a5%80 %e0%a4%b8%e0%a5%80%e0%a4%ae%e0%a4%be %e0%a4%aa

नई दिल्ली| आतंकी घुसपैठ रोकने के भारतीय सेना सीमा पर रिमोट कंट्रोल बंदूकें तैनात करेगी। बताया जा रहा है कि साल के अंत तक लाइन ऑफ कंट्रोल पर रिमोट कंट्रोल बंदूकें तैनात कर दी जाएंगी। यह गन जवानों के लिए काफी मददगार होगी। इनके इस्तेमाल से सीमा पर मारे जाने वाले जवानों की संख्या में कमी आएगी।  
 
स्थाई इलाके में डेवलप की गई इन मशीनगनों में इन्फ्रारेड सेंसर और रेडिएशन जांचने वाली डिवाइसें लगाई गई हैं। यह बंदूकें बॉर्डर के 80 मीटर से लेकर 2 किलोमीटर तक की परिधि में हो रही किसी भी जीवित हलचल को पकड़ सकती हैं। 

इन बंदूकों का सीधा संबंध रोटरों और नाइट विजन कैमरों से होगा जो कि वर्कस्टेशनों में बैठे कमांडरों तक सीधी जानकारी पहुंचाती रहेंगी।  ब्रिगेडियर पीसी व्यास ने बताया कि यदि बंदूक कोई भी घुसपैठ की हलचल को पकड़ती है तो ऑब्जर्वर जवान को सिर्फ एक बटन दबाना होगा और फिर बंदूक अपना काम शुरू कर देगा। 

नई दिल्ली| आतंकी घुसपैठ रोकने के भारतीय सेना सीमा पर रिमोट कंट्रोल बंदूकें तैनात करेगी। बताया जा रहा है कि साल के अंत तक लाइन ऑफ कंट्रोल पर रिमोट कंट्रोल बंदूकें तैनात कर दी जाएंगी। यह गन जवानों के लिए काफी मददगार होगी। इनके इस्तेमाल से सीमा पर मारे जाने वाले जवानों की संख्या में कमी आएगी।   स्थाई इलाके में डेवलप की गई इन मशीनगनों में इन्फ्रारेड सेंसर और रेडिएशन जांचने वाली डिवाइसें लगाई गई हैं। यह बंदूकें बॉर्डर के 80 मीटर से लेकर…