इंद्राणी की हालत नाजुक, फोरेंसिक लैब, अस्पताल की रिपोर्ट अलग-अलग

नई दिल्ली| शीना बोरा हत्याकांड की मुख्य आरोपी इंद्राणी मुखर्जी की हालत नाजुक बनी हुई है। जेजे अस्पताल के एक सीनियर डाक्टर ने बताया कि इंद्राणी को होश नहीं आया है और डाक्टर उसे होश में लाने के लिए जी जान से जुटे हुए हैं और अगले 48 घंटे बहुत अहम हैं।

उधर, इंद्राणी मुखर्जी के बेहोश होने की रहस्य और गहरा गया है।  दरअसल जे.जे अस्पताल के डॉक्टरों ने दवाइयों के ओवरडोज लेने की वजह से इंद्राणी की तबीयत खराब होने की बात कही है। वहीं सूत्रों के मुताबिक फोरेंसिक लैब ने दवाइयों के ओवरडोज को सिरे से नकार दिया है। हालांकि आधिकारिक तौर पर फोरेंसिक लैब की रिपोर्ट आज जारी होगी।

जेजे अस्पताल अभी भी इस थ्योरी पर कायम है कि इंद्राणी की तबीयत दवाइयों के ओवरडोज लेने से ही बिगड़ी। दरअसल इंद्राणी को जेल में मिर्गी के दौरे भी आए थे जिसके बाद ही डिप्रेशन की दवाई जेजे अस्पताल के डॉक्टर्स ने ही प्रिसक्राइब की थी। प्रिसक्रिप्शन के मुताबिक इंद्राणी को मिरतजेपाइन 7.5 एमजी एंटी डिप्रेशन की दवाई दिन में दी जाती थी और इटीजोलाम 5 एमजी शाम को दी जाती थी।

जेजे अस्पताल ने FSL जांच के लिए इंद्राणी के यूरीन सैंपल, ब्लड सैंपल और स्टोमैक वॉश के सैंपल्स भेजे थे। लेकिन अगर सूत्रों की मानें तो FSL की रिपोर्ट ने जेजे अस्पताल की ओवरडोज की थ्योरी को सिरे से नकार दिया है।