दादरी कांड : इखलाक की मौत का पाकिस्तान कनेक्शन

लखनऊ| यूपी के दादरी में गाय का मांस (बीफ) खाने की अफवाह फैलने के बाद 50 साल के इखलाक की पीट-पीटकर हत्या मामले नया खुलासा हुआ है। बताया जा रहा है कि इखलाक की हत्या एक साल से उसके बदले हुए रवैये के खिलाफ पनप रहे गुस्से का परिणाम थी। दरअसल इखलाक की मौसी पाकिस्तान में रहती है जिनसे मिलने वह करीब दो साल पहले पाकिस्तान गया था। पाकिस्तान में वह करीब ढाई महीने रहा। पाकिस्तान से लौटने के बाद इखलाक का उसके पड़ोसियों के साथ व्यवहार बदल गया था।

गाँव वालों की माने तो वहां से आने के बाद इखलाक की गतिविधियां और व्यवहार काफी बदल गई थीं। उसने अल्टो कार खरीद ली थी। उसके हाव-भाव भी काफी बदल गए थे। जिन दोस्तों के साथ वह काफी मिल जुलकर रहता था उसने भी बात करना छोड़ दिया था। आए दिन मस्जिदों में होने वाले कार्यक्रमों में वह बढ़ चढ़कर हिस्सा लेता था। पाकिस्तान से लौटे इखलाक के भीतर पनपती कट्टर मुस्लिमवादी सोच कारण गांव के लोग उसे शक भरी नजरों से देखने लगे थे। यहाँ तक बताया जा रहा है कि इखलाक ने पिछले एक साल में अपने पड़ोसी और बचपन के दोस्त से भी दूरियाँ बना ली थी, जबकि दोनों के परिवारों के बीच पूर्व से बेहद घनिष्टता रही। आज इखलाक के उसी दोस्त के परिवार के बेटों पर उसकी हत्या का आरोप भी लगा है।  
 
यही कारण था कि 28 सितंबर की रात जब मंदिर से इखलाक पर गोहत्या का आरोप लगाया तो उसे गांव के अन्य लोगों ने सही मान लिया। वह इखलाक के घर पहुंचे और उसकी पिटाई कर दी जिसमें इखलाक कि मौत हो गई।

इस मामले में इखलाक की बहन हाजरा और बेटे सरताज का बयान अलग-अलग है। हाजरा ने कबूल किया है कि उसके भाई इखलाक पाकिस्तान में रहने वाली मौसी अखतरी से मिलने गए थे जबकि बेटे सरताज का कहना है कि हमारा कोई रिश्तेदार पाकिस्तान में नहीं है और मेरे पिता कभी पाकिस्तान नहीं गए थे।

उधर, एडीएम राजेश यादव का कहना है कि प्रशासन को इखलाक के पाकिस्तान जाने की जानकारी नहीं है। अभी तक यह मामला किसी के संज्ञान में नहीं आया। अब इसकी जांच होगी कि इखलाक क्यों और कैसे पाकिस्तान गया था।
Loading...