इलाहाबाद: अधिकारियों की डांट ने ले ली अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी की जान

इलाहाबाद। प्रतापगढ़ में तैनात अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी अशोक कुमार चौरसिया की हार्ट अटैक से मौत हो गई। आरोप है कि विभागीय अफसरों की डांट-फटकार के कारण चौरसिया को दिल का दौरा पड़ा। जिसके बाद आनन-फानन में उन्हें इलाहाबाद स्थित मेडिकल कालेज लाया गया। जहां उन्हें डाक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। इस घटना के बाद प्रतापगढ़ के प्रांतीय चिकित्सा संघ के सेक्रेटरी और अन्य डॉक्टरों ने डीएम और सीएमओ के खिलाफ जांच कर कठोर कार्रवाई की मांग की है। डॉक्टरों ने सोमवार को प्रतापगढ़ में ओपीडी सेवाएं बंद करने का एलान क‍िया है।

जानकारी के अनुसार, इलाहाबाद के सिविल लाइन न‍िवासी डॉ. अशोक कुमार का 15 दिन पहले ही प्रतापगढ़ ट्रांसफर हुआ था। इससे पहले वह इलाहाबाद में ही पोस्टेड थे। वह प्रतापगढ़ में जिला प्रतिरक्षक अधिकारी के तौर पर तैनात थे। रविवार को प्रतापगढ़ में जिला महिला चिकित्सालय में इंद्रधनुष कार्यक्रम का उद्घाटन का कार्यक्रम था। अशोक कुमार सुबह 8 बजे वहां पहुंच गए थे। जिला प्रांतीय चिकित्सा संघ के सेक्रेटरी डॉ. मनोज कनौजिया का आरोप है कि पहले सीएमओ डॉ. राजकुमार नैय्यर ने सार्वजनिक तौर पर डॉ. अशोक कुमार को डांटा और कहा कि आप काम ठीक से नहीं करते हैं। इसके बाद वहां मौजूद डीएम शम्भू कुमार ने उन्हें जमकर फटकार लगाई और बेइज्जत किया।

{ यह भी पढ़ें:- चेन्नई: पुराने बस स्टैंड की छत गिरी, आठ कर्मचारियों की मौत }

डॉ. अशोक कुमार चौरसिया के साथियों का आरोप है इससे वह ड‍िप्रेश हो गए और उनकी हालत बिगड़ गई। करीब 1:30 बजे उन्हें प्रतापगढ़ से इलाहाबाद के सरस्वती हार्ट केयर लाया गया, जहां इलाज के दौरान रात में उनकी मौत हो गई। बाद में कार्यक्रम का उद्घाटन प्रदेश सरकार के कैबिनेट मंत्री मोती सिंह ने किया।

क्या कहते हैं पुल‍िस अध‍िकारी
SSP आनंद कुलकर्णी ने बताया, पुलिस पोस्टमॉर्टम कराना चाहती थी, लेकिन परिजन तैयार नहीं हुए। शव को लेकर परिजन देर रात झूसी चले गए, जहां उनका अपना घर है। सोमवार को रसूलाबाद घाट पर अंतिम संस्कार किया जाएगा। परिजन प्रतापगढ़ CMO और DM पर आरोप जरूर लगा रहे थे, लेकिन किसी ने कोई लिखित एप्लि‍केशन अभी तक नहीं दी है। तहरीर म‍िलने के बाद जांच की जाएगी।

{ यह भी पढ़ें:- भयानक विस्फोट से दहल गया आगरा, दो लोगों की मौके पर मौत }