उत्तर भारतीयों को कानून तोड़ने में आता है मजा: किरन रिजिजू

नई दिल्ली। केंद्रीय गृहराज्य मंत्री किरन रिजिजू ने गुरुवार को एक कार्यक्रम के दौरान अपने सम्बोधन में दिल्ली के एक पूर्व उपराज्यपाल के उस बयान से सहमति जताई है जिसमें उन्होंने कहा था कि उत्तर भारतीयों को कानून तोड़ने में मजा आता है और ऐसा  करके वे गर्व भी महसूस करते हैं।

रिजिजू ने कहा दिल्ली के उस उपराज्यपाल ने जो कहा, बिल्कुल सही कहा था। हालांकि, केंद्रीय मंत्री ने पूर्व उपराज्यपाल का नाम नहीं लिया, लेकिन रिकॉर्ड बताते हैं कि ये टिप्पणियां दिल्ली के तत्कालीन उपराज्यपाल तेजेंदर खन्ना ने फरवरी 2008 में की थी।

खन्ना ने कहा था कि उत्तर और पश्चिमी भारतीयों की कानून तोड़ने में मजा आता है और ऎसा करके वे गर्व महसूस करते हैं। उनको लगता है कि कानून तोड़ने के बावजूद किसी ने उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की। हालांकि, भाजपा और कांग्रेस द्वारा विरोध किए जाने के बाद उन्हें अपना यह बयान वापस लेना पड़ा था।

रिजिजू ने आगे कहा कि यहां लोग इस बात को लेकर शेखी झाड़ते हैं कि उन्होंने पुलिसकर्मी को धमकी दी। इसका मतलब है कि हमारे पूरे समाज को बदला होगा। मंत्री ने कहा कि हर बात के लिए पुलिस को दोष देना ठीक नहीं है। बहुत से लोगों का कहना है कि पुलिसकर्मी अक्खड़ हो गए हैं। पुलिस तभी अक्खड़ होगी अगर लोगों में अनुशासनहीनता बढ़ेगी।