केजरीवाल ने एसीबी प्रमुख को थमाई नोटिस, मांगा 10 दिनों में जवाब  

नई दिल्ली। दिल्ली की सत्ता पर आसीन आम आदमी पार्टी और राज्य की एंटी करप्शन ब्यूरो (एसीबी) के मुखिया मुकेश कुमार मीणा एक बार फिर आमने सामने आ गए है। दरअसल, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कई मामलों को लेकर मुकेश मीणा को नोटिस थमा दी है और 10 दिनों के भीतर जवाब मांगा है। साथ ही केजरीवाल ने मीणा को अल्टिमेटम भी दिया है कि अगर मामले का जवाब नहीं दिया गया तो उसके खिलाफ जांच की जाएगी।

आपको बता दें कि मीणा पर अपने अधिकारियों से गलत बर्ताव करने का और उनपर दबाव बनाने का आरोप है साथ ही यह भी बताया जा रहा है कि उनपर केजरीवाल सरकार द्वारा नियुक्त एसीबी प्रमुख एसएस यादव से फाइलें छिनने के भी आरोप लगाए गए हैं।

मिली जानकारी के अनुसार, हाल में एसीबी ने प्याज खरीद, सीएनजी फिटनेस, विज्ञापनों के आवंटन और चीनी की खरीद समेत कई मामलों में जांच के आदेश दिए थे। ये वहीं मामले हैं जिन्हे पिछले दिनों प्रदेश सरकार की जनता की सहूलियत को ध्यान में रखते हुए शुरू किया था। सरकार ने इन सब मामलों में काफी पूंजी लगाई थी।

अब केजरीवाल ने मीणा के खिलाफ आरोप लगाते हुए नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। केजरीवाल ने मीणा पर आरोप लगाया है कि अपने मातहतों को दबाने के लिए एसीबी परिसर में अर्द्धसैनिक बलों को बुलाया, एसएसएस यादव से एफआईआर की कॉपी छिनी गई, दिल्ली सरकार के भ्रष्टाचार रोधी बयानों के खिलाफ बोलने और अपना खुद का एंडी करप्शन हेल्पलाइन बनाने संबंधी कई मामलों में मीणा पर आरोप लगाए गए हैं।

गौरतलब है कि मीणा की एसीबी प्रमुख की नियुक्ति पर भी केजरीवाल सरकार ने आपत्ति जताई थी और उपराज्यपाल नजीब जंग के साथ इस मामले पर विवाद भी हुआ था। तब से अब तक कई मामलों को लेकर केजरीवाल सरकार और एसीबी प्रमुख मुकेश मीणा के बीच  टकराव होने की बात सामने आने आ चुकी है।

 

Loading...