1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. केन्द्र सरकार किसानों को विश्वास में लेकर ही निर्णय लेती तो यह बेहतर होता : मायावती

केन्द्र सरकार किसानों को विश्वास में लेकर ही निर्णय लेती तो यह बेहतर होता : मायावती

By शिव मौर्या 
Updated Date

लखनऊ। किसानों से जुड़े तीन अहम अध्यादेश संसद के दोनों सदनों से पास करा ​लिए गए हों लेकिन इस मुद्दे पर सियासत थमने का नाम नहीं ले रही है। देशभर के विभिन्न हिस्सों में इस मुद्दे को लेकर प्रदशर्न हो रहा है। पंजाब में किसानों ने राज्य में तीन दिनों का रेल रोको आंदोलन शुरू कर दिया है। आगे और भी मोर्चे खुलने का अंदेशा जताया जा रहा है।

पढ़ें :- केंद्र की मोदी सरकार का बड़ा फैसला: अब जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में देश का कोई भी व्यक्ति खरीद सकता है जमीन

इस बीच बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती भी केंद्र सरकार को अपने अंदाज में घेर रही हैं। मायावती ने ट्वीट कर कहा है कि “जैसा कि विदित है कि बीएसपी ने यूपी में अपनी सरकार के दौरान कृषि से जुड़े अनेकों मामलों में किसानों की कई पंचायतें बुलाकर उनसे समुचित विचार-विमर्श करने के बाद ही उनके हितों में फैसले लिए थे। यदि केन्द्र सरकार भी किसानों को विश्वास में लेकर ही निर्णय लेती तो यह बेहतर होता।”

पढ़ें :- खुशखबरी: पीएम मोदी ने फिर किया बड़ा ऐलान, दिवाली पर देंगे मुफ्त राशन और कैश

बता दें केंद्र की मोदी सरकार द्वारा पिछले हफ्ते पास किए गए 3 बिलों में कृषि उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्द्धन और सरलीकरण) विधेयक-2020 और कृषक (सशक्तिकरण एवं संरक्षण) कीमत आश्वासन समझौता और कृषि सेवा करार, आवश्यक वस्तु (संशोधन) विधेयक शामिल है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...