खून से ख़त लिख युवती ने योगी आदित्यनाथ से मांगा इंसाफ

इलाहाबाद| यूपी के कौशांबी से एक युवती ने सीएम योगी आदित्यनाथ को अपने खून से लिखा खत भेजा है। युवती ने खत में अपने छोटे भाई के हत्यारों को सजा दिलाने की मांग की है।




घटना कौशांबी जनपद के तेली का पूरा गांव की हैं। जहां की रहने वाली मीनू यादव ने सीएम से अपने भाई के हत्यारों को सजा दिलवाने की गुहार लगाई है। पीड़िता के मुताबिक, उसका भाई रवींद्र इलाहाबाद में एक निजी कंपनी में काम करता था। वहां उसकी दोस्ती फ़तेहपुर के रहने वाले पंकज चौहान से हुई। रवीन्द्र, पंकज के घर आने जाने लगा, जहां उसकी मुलाक़ात पंकज की बहन अंजुमन सिंह से हुई। धीरे-धीरे मुलाक़ात दोस्ती में और फिर प्यार में बदल गयी। पंकज को ये रिश्ता मंजूर नहीं था। उसने 8 मार्च को रवीन्द्र को फ़तेहपुर बुलवाया। पीड़िता का कहना है कि फ़तेहपुर जाते हुए रवीद्र ने अपनी फोटो व्हॉट्सएप के जरिए परिजनों और दोस्तों को भेजी थी। इस बीच कुछ समय बाद जब हमने रवीन्द्र से हाल-चाल लेने के लिए फोन मिलाया तो उसका फोन स्विच ऑफ बताने लगा।

9 मार्च को रवीन्द्र के परिवार को उसकी डेडबॉडी बिंदकी रेलवे स्टेशन के बीच ट्रैक पर मिलने की सूचना मिली। शव के बदन पर कोई कपड़ा नहीं था। पुलिस को छानबीन में ट्रैक के पास के एक खंजर भी बरामद हुआ। खंजर मिलने से पुलिसवालों ने पहले मर्डर फिर बॉडी को ट्रैक पर फेकने की आशंका जताई है। मृतक के पिता शिव प्रताप की तहरीर पर कल्यानपुर पुलिस ने पंकज सिंह चौहान और अंजुमन सिंह के खिलाफ मर्डर और शव को ठिकाने लगाने के मामले में केस दर्ज कर लिया। उधर मीनू यादव का कहना है कि उसके भाई का मोबाइल अभियुक्तों के गांव से ही बरामद हुआ है। पुलिस के मुताबिक आरोपी की बहन से मृतक के अफेयर की कोई भी पुष्टि नहीं हो पाई है। बताया जा रहा है कि आरोपी अंजुमन मृतक की सीनियर थी और उसी के जरिये मृतक की मुलाक़ात पंकज से हुई थी।



इंसाफ न मिलने पर दी आत्मदाह की धमकी

मृतक की बहन मीनू यादव ने सीएम से इंसाफ मांगते हुए हत्यारो को कड़ी से कड़ी सजा दिलाने की मांग की। साथ ही उसने कहा कि अगर उसे इंसाफ नहीं मिला तो वह आत्मदाह कर लेगी, जिसकी जिम्मेदार योगी सरकार होगी।

Loading...