गुलाबी क्रांति के जरिये मुसलमानों का कत्ल कराना चाहते हैं मोदी: आजम खान

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के गौतमबुद्ध नगर जिले में स्थित दादरी क्षेत्र में बीते बुधवार को हुई मो. अखलाक की हत्या के मामले को लेकर सूबे के काबीना मंत्री आजम खान ने केंद्र सरकार व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जमकर निशाना साधा है। आजम खां ने कहा है कि अगर नरेन्द्र मोदी गुलाबी क्रांति के जरिये मुसलमानों का कत्ल कराना चाहते हैं तो हम उनकी निंदा करते हैं।

बीते शुक्रवार को गेस्ट हाउस में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में आजम खान ने मोदी को नया संत बताया और कहा कि मोदी आगामी संसदीय सत्र में प्रतिबन्धित पशुओं के कटान पर रोकने के लिए कानून बनाये और कटान व प्रतिबन्धित मांस खाने वालों के सख्त सजा का प्रावधान करें। उन्होंने कहा कि भारत सरकार की ओर से इस बात पर भी श्वेत पत्र आना चाहिए कि देश में गोश्त काटने और निर्यात करने के ज्यादातर कारखाने किसके हैं।

आजम ने खुलासा किया कि देश भर में नब्बे प्रतिशत से ज्यादा वधशालाऐं भाजपा, विहिप, आरएसएस और शिवसेना के साथ-साथ जैन बन्धुओं की हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा को महज चुनाव की खातिर गोश्त की राजनीति नहीं करनी चाहिए। मोदी की गुलाबी क्रांति ने देश को बर्बादी के मुहाने पर लाकर खड़ा कर दिया है।

आजम ने कहा कि आज गोवा, पॉडुचेरी, नागालैण्ड में दुकानों पर खुलेआम गोश्त बिकता है, देश की राजधानी के ज्यादातर पांच सितारा होटलों में प्रतिबन्धित पशुओं को गोश्त मीनू में शामिल है। आजम खां ने कहा कि गोश्त की राजनीति खत्म होनी चाहिए और इसके प्रभावी और देशव्यापी कानून बनना चाहिए।

मालूम हो कि बीते 30 सितंबर को आरोपियों ने मंदिर में लगे लाउड स्पीकर से गाँव में अफवाह फैला दी थी कि गाँव में रहने वाले अखलाक के घर में गौमांस पका है जिसके उत्तेजित होकर गाँव वालों ने इकट्ठा होकर अखलाक के घर पर हमला बोल दिया था। गाँव वालों ने घर में जमकर तोडफोड करने के साथ-साथ अखलाक के परिवार वालों को भी बुरी तरह से पिटाई कर दी थी, जिससे अखलाक की मौके पर ही मौत हो गई थी। जबकि उसका बेटा बुरी तरह से घायल हो गया था।