गौहत्या पर प्रतिबंध लगाने के लिए जल्द से जल्द कानून बनाए केंद्र सरकार: विहिप

नई दिल्ली। गौहत्या को लेकर राजनीतिक गलियारों में मचे कौतूहल के बीच एक बार फिर विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) ने गौहत्या पर रोक लगाए जाने को लेकर अपनी आवाज बुलंद की है। केंद्र सरकार से जल्द से जल्द गौहत्या पर प्रतिबंध के लिए कानून बनाने की मांग की है। यह मांग विहिप के अंतर्राष्ट्रीय संयुक्त महासचिव सुरेंद्र जैन ने शुक्रवार को की।

विहिप ने केंद्र सरकार के समक्ष अपनी यह मांग उस समय रखी है जब हिमचाल प्रदेश उच्च न्यायालय ने केंद्र सरकार को गौहत्या पर रोक लगाने वाले एक कानून पर विचार करने के लिए तीन महीनों का समय दिया है।

सुरेंद्र जैन ने अपने एक बयान में कहा कि अपनी वादे और जन भावनाओं का सम्मान करने के लिए केंद्र सरकार को इसमें (गोहत्या पर प्रतिबंध लगाने वाले कानून) में और अब और विलंब नहीं करना चाहिए। उन्होंने कांग्रेस और अन्य राजनीतिक दलों से इस पर पूरी तरह प्रतिबंध लगाने में मदद करने का आग्रह किया। 

जैन ने कहा कि संकीर्ण राजनीतिक उदेश्यों को पीछे छोड़कर कांग्रेस और अन्य दलों को इसे पूरी तरह प्रतिबंधित करने के लिए आगे आना चहिए। यह याद किया जाना चाहिए कि कांग्रेस ने अपने शासन के दौरान कई राज्यों में गोहत्या पर प्रतिबंध लगाया था।

हिमचाल प्रदेश उच्च न्यायालय ने बुधवार को केंद्र सरकार से कहा था कि गोहत्या पर रोक लगाने वाले एक कानून पर तीन महीनों में विचार करें। अदालत ने केंद्र सरकार से यह भी कहा था कि गायों की रक्षा के लिए विशेष योजनाएं बनाने और उन्हें आश्रय और चारा उपलब्ध कराने के लिए हिमाचल सरकार को धन आवंटित करे।