चारों ओर शोर, कब होगा मंत्रियों का शपथ ग्रहण ?

shivraj singh chauhan
मध्यप्रदेश: वायरल वीडियो पर सीएम शिवराज बोले 'पापियों का विनाश तो पुण्य का काम' 

दिनेश निगम ‘त्यागी’

%e0%a4%9a%e0%a4%be%e0%a4%b0%e0%a5%8b%e0%a4%82 %e0%a4%93%e0%a4%b0 %e0%a4%b6%e0%a5%8b%e0%a4%b0 %e0%a4%95%e0%a4%ac %e0%a4%b9%e0%a5%8b%e0%a4%97%e0%a4%be %e0%a4%ae%e0%a4%82%e0%a4%a4%e0%a5%8d%e0%a4%b0 :

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार के मंत्रिमंडल विस्तार का शोर चारों ओर है। लेकिन यह कब होगा, पहेली बनकर रह गया है। मैं पहले ही लिख चुका हूं कि मंत्रियों की शपथ अप्रैल के अंतिम हप्ते से पहले नहीं होगी। पर बहस, अटकलें, चर्चाएं जारी हैं। सोशल मीडिया एवं राजनीतिक हलकों में चल रही चर्चा को सच मान लेते तो शपथ ग्रहण शुक्रवार – शनिवार को ही हो गया होता। हालांकि यह सच है कि मंत्रिमंडल गठन को लेकर कसरत जारी है। बागियों के रूप में कांग्रेस की संस्कृति भाजपा में प्रवेश कर चुकी है। इसलिए मंत्रियों की संख्या को लेकर सहमति नहीं बन पा रही। अटकलें कई तरह की हैं। एक यह कि पहले चरण में प्रमुख विभागों के सात मंत्री शपथ लेंगे। दूसरी सूचना 12 मंत्रियों के शपथ लेने की है और तीसरी में पूरे दो दर्जन मंत्री बनाए जाने की बात कही जा रही है। मजेदार बात यह है कि जिस राजभवन में शपथ ग्रहण होना है और राज्यपाल को शपथ दिलाना है, वहां मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर न कोई सूचना है और न ही कोई तैयारी। हालांकि राजभवन को सूचना न होने के बावजूद तत्काल सूचना देकर कभी भी मंत्रिमंडल का विस्तार किया जा सकता है। बहरहाल मंत्रियों की शपथ को लेकर संशय बरकरार है। मजेदार बात यह है कि अब तक मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने राज्यपाल से मिलने का समय तक नहीं मांगा।

सिंधिया चाहते हैं वादे पर अमल….

शिवराज मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर खबरें पहले से चर्चा में थीं। कहा जा रहा था, 14 अप्रैल को लॉकडाउन समाप्त होने के बाद मंत्रिमंडल विस्तार हो जाएगा। अचानक लॉकडाउन 3 मई तक बढ़ गया। सिंधिया समर्थक कांग्रेस के बागी बेचैन हो गए। उन्होंने अपने नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया से बात की। शुक्रवार को खबर आ गई कि मंत्रिमंडल गठन को लेकर सिंधिया ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की है। बस क्या था, मंत्रियों के शपथ लेने की खबर तेजी से फैल गई। अड़चन इस बात को लेकर है कि सिंधिया चाहते हैं, भाजपा नेतृत्व ने जो वादा किया था, वह पहली बार में ही पूरा हो। अर्थात उनके सभी दावेदार पहली बार में ही मंत्री बनें जबकि भाजपा नेतृत्व अभी छोटा मंत्रिमंडल बनाना चाहता है।

भोपाल आ गए मंत्री पद के दावेदार….
मंत्रिमंडल विस्तार की चर्चा के बीच भाजपा के कई वरिष्ठ विधायक भोपाल में थे ही, मंत्री पद के दावेदार सिंधिया समर्थक विधायक भी राजधानी पहुंच गए। इनके बीच बैठकों का दौर शुरू हो गया। कुछ विधायक प्रदेश भाजपा कार्यालय पहुंचे। प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा से मुलाकात की। मंत्रियों की संख्या तय नहीं है लेकिन खबर है कि स्टेट गैरेज को 12 से 15 मंत्रियों के लिए गाड़ियां तैयार रखने के लिए कहा गया है। हालांकि इसकी पुष्टि कोई नहीं कर रहा है। स्टेट गैरेज सूत्रों का कहना है कि ऐसे हालात में हम गाड़ियां तैयार रखते हैं क्योंकि मंत्रिमंडल विस्तार की सूचना कभी भी आ सकती है।

* ऐसे हो सकता है मंत्रिमंडल का गठन

सात तय हुए तो ये बन सकते हैं मंत्री…
– तुलसी सिलावट, गोविंद सिंह राजपूत, गोपाल भार्गव, नरोत्तम मिश्रा, भूपेंद्र सिंह, राजेंद्र शुक्ला एवं गौरीशंकर बिसेन।
12 बनें तो 5 ये हो सकते शामिल….
– बिसाहूलाल सिंह, हरदीप सिंह डंग, रामपाल सिंह, प्रभुराम चौधरी एवं यशोधराराजे सिंधिया
24 बने तो इन 12 नामों पर विचार….
– प्रद्युम्न सिंह तोमर, इमरती देवी, महेंद्र सिंह सिसोदिया, एंदल सिंह कंसाना, राजवर्धन सिंह दत्तीगांव, रमेश मेंदोला, विजय शाह, सीतासरन शर्मा, संजय पाठक, विश्वास सारंग, रामेश्वर शर्मा एवं अरविंद भदौरिया।
इन नामों की भी चर्चा….
– मंत्रिमंडल विस्तार में यदि मंत्रियों की संख्या और बढ़ाने का निर्णय हुआ तब अजय विश्नोई, केदारनाथ शुक्ला, पारस जैन के साथ सपा, बसपा एवं निर्दलीय विधायकों में से 2-3 नाम शामिल किए जा सकते हैं। बसपा की रामबाई का दावा है कि भाजपा के सभी प्रमुख नेताओं ने उनसे मंत्री बनाने का वादा कर रखा है।

दिनेश निगम ‘त्यागी’ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार के मंत्रिमंडल विस्तार का शोर चारों ओर है। लेकिन यह कब होगा, पहेली बनकर रह गया है। मैं पहले ही लिख चुका हूं कि मंत्रियों की शपथ अप्रैल के अंतिम हप्ते से पहले नहीं होगी। पर बहस, अटकलें, चर्चाएं जारी हैं। सोशल मीडिया एवं राजनीतिक हलकों में चल रही चर्चा को सच मान लेते तो शपथ ग्रहण शुक्रवार - शनिवार को ही हो गया होता। हालांकि यह सच है कि मंत्रिमंडल गठन को लेकर कसरत जारी है। बागियों के रूप में कांग्रेस की संस्कृति भाजपा में प्रवेश कर चुकी है। इसलिए मंत्रियों की संख्या को लेकर सहमति नहीं बन पा रही। अटकलें कई तरह की हैं। एक यह कि पहले चरण में प्रमुख विभागों के सात मंत्री शपथ लेंगे। दूसरी सूचना 12 मंत्रियों के शपथ लेने की है और तीसरी में पूरे दो दर्जन मंत्री बनाए जाने की बात कही जा रही है। मजेदार बात यह है कि जिस राजभवन में शपथ ग्रहण होना है और राज्यपाल को शपथ दिलाना है, वहां मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर न कोई सूचना है और न ही कोई तैयारी। हालांकि राजभवन को सूचना न होने के बावजूद तत्काल सूचना देकर कभी भी मंत्रिमंडल का विस्तार किया जा सकता है। बहरहाल मंत्रियों की शपथ को लेकर संशय बरकरार है। मजेदार बात यह है कि अब तक मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने राज्यपाल से मिलने का समय तक नहीं मांगा। सिंधिया चाहते हैं वादे पर अमल.... शिवराज मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर खबरें पहले से चर्चा में थीं। कहा जा रहा था, 14 अप्रैल को लॉकडाउन समाप्त होने के बाद मंत्रिमंडल विस्तार हो जाएगा। अचानक लॉकडाउन 3 मई तक बढ़ गया। सिंधिया समर्थक कांग्रेस के बागी बेचैन हो गए। उन्होंने अपने नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया से बात की। शुक्रवार को खबर आ गई कि मंत्रिमंडल गठन को लेकर सिंधिया ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की है। बस क्या था, मंत्रियों के शपथ लेने की खबर तेजी से फैल गई। अड़चन इस बात को लेकर है कि सिंधिया चाहते हैं, भाजपा नेतृत्व ने जो वादा किया था, वह पहली बार में ही पूरा हो। अर्थात उनके सभी दावेदार पहली बार में ही मंत्री बनें जबकि भाजपा नेतृत्व अभी छोटा मंत्रिमंडल बनाना चाहता है। भोपाल आ गए मंत्री पद के दावेदार.... मंत्रिमंडल विस्तार की चर्चा के बीच भाजपा के कई वरिष्ठ विधायक भोपाल में थे ही, मंत्री पद के दावेदार सिंधिया समर्थक विधायक भी राजधानी पहुंच गए। इनके बीच बैठकों का दौर शुरू हो गया। कुछ विधायक प्रदेश भाजपा कार्यालय पहुंचे। प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा से मुलाकात की। मंत्रियों की संख्या तय नहीं है लेकिन खबर है कि स्टेट गैरेज को 12 से 15 मंत्रियों के लिए गाड़ियां तैयार रखने के लिए कहा गया है। हालांकि इसकी पुष्टि कोई नहीं कर रहा है। स्टेट गैरेज सूत्रों का कहना है कि ऐसे हालात में हम गाड़ियां तैयार रखते हैं क्योंकि मंत्रिमंडल विस्तार की सूचना कभी भी आ सकती है। * ऐसे हो सकता है मंत्रिमंडल का गठन सात तय हुए तो ये बन सकते हैं मंत्री... - तुलसी सिलावट, गोविंद सिंह राजपूत, गोपाल भार्गव, नरोत्तम मिश्रा, भूपेंद्र सिंह, राजेंद्र शुक्ला एवं गौरीशंकर बिसेन। 12 बनें तो 5 ये हो सकते शामिल.... - बिसाहूलाल सिंह, हरदीप सिंह डंग, रामपाल सिंह, प्रभुराम चौधरी एवं यशोधराराजे सिंधिया 24 बने तो इन 12 नामों पर विचार.... - प्रद्युम्न सिंह तोमर, इमरती देवी, महेंद्र सिंह सिसोदिया, एंदल सिंह कंसाना, राजवर्धन सिंह दत्तीगांव, रमेश मेंदोला, विजय शाह, सीतासरन शर्मा, संजय पाठक, विश्वास सारंग, रामेश्वर शर्मा एवं अरविंद भदौरिया। इन नामों की भी चर्चा.... - मंत्रिमंडल विस्तार में यदि मंत्रियों की संख्या और बढ़ाने का निर्णय हुआ तब अजय विश्नोई, केदारनाथ शुक्ला, पारस जैन के साथ सपा, बसपा एवं निर्दलीय विधायकों में से 2-3 नाम शामिल किए जा सकते हैं। बसपा की रामबाई का दावा है कि भाजपा के सभी प्रमुख नेताओं ने उनसे मंत्री बनाने का वादा कर रखा है।