जर्मन पत्रकार का दावा, न्यूक्लियर हमले के जरिए 50 करोड़ लोगों को मारना चाहता है ISIS

नई दिल्ली। आईएस आतंकियों के साथ दस दिन बिताकर लौटे जर्मन पत्रकार जर्गन टोडेनहॉफर ने दावा किया है कि आतंकी संगठन इस्लामी स्टेट ने एटमी हमले के जरिए दुनिया में करीब 50 करोड़ लोगों को मारने का मंसूबा पाल रखा है। टोडेनहॉफर ने आईएस के आतंकियों के साथ बिताए वक्त की जानकारी अपनी किताब ‘इनसाइड आईएस- टेन डेज़ इन द इस्लामिक स्टेट’ में दी है।

उन्होंने अपनी किताब में लिखा है कि आईएस के मंसूबे बहुत ही खतरनाक हैं। वह पश्चिमी देशों के हर शख्स को खत्म कर देना चाहते हैं और पूरी दुनिया पर इस्लामिक शासन कायम करना चाहते हैं। टोडेनहॉफर का कहना है कि आईएस पश्चिमी देशों के नागरिकों का नामोनिशान मिटाने के लिए ‘एटमी सूनामी’ लाना चाहता है। 

 टोडेनहॉफर ने कहा कि आईएस के आतंकी मानते हैं कि वो धार्मिक साफ-सफ़ाई के नाम पर 50 करोड़ लोगों का खात्मा करके रहेंगे। आतंकी यह सब कुछ धार्मिक साफ-सफाई के नाम पर अंजाम देना चाहते हैं। आतंकी इस्लाम में भरोसा नहीं करने वाले हर किसी को खत्म कर देना चाहते हैं। वह सभी महिलाओं और बच्चों को गुलाम बना लेना चाहते हैं। सभी शियाओं, यजीदी, हिंदुओं और नास्तिकों को खत्म कर देना चाहते हैं।
 
आपको बता दें कि टोडेनहॉफर को अपने साथ वक्त बिताने की आईएस ने इजाज़त इसलिए दी क्योंकि वे अमेरिका की मध्य पूर्व पॉलिसी के मुखर विरोधी रहे हैं|