जालसाज शैलेंद्र अग्रवाल को बचाने में जुटे पुलिस के आला अफसर

लखनऊ: करोड़ों की ठगी के मामले में गिरफ्त में आए हाई प्रोफाइल जालसाज और कथित सपा नेता शैलेंद्र अग्रवाल को आगरा पुलिस बचाने में जुट गयी है। उसके खिलाफ धोखाधड़ी के दर्ज 23 मामलों में उसे क्लीनचिट दिये जाने की आशंका है। यही नहीं धोखाधड़ी में शामिल परिवार व करीबियों को भी पुलिस बचाने में जुट गयी है। फिलहाल इन दिनों शैलेन्द्र एटा जिला कारागार में निरुद्घ है।

आगरा के शातिर जालसाज शैलेन्द्र अग्रवाल ने नेताओं पर पुलिस के वरिष्ठ अफसरों से नजदीकियों का फायदा उठाकर सैकड़ों लोगों से कई अरब की ठगी की थी। जिसको लेकर आगरा और मथुरा में दर्जनों व्यापारियों ने शैलेन्द्र के खिलाफ करीब 23 मामले दर्ज कराये थे। जांच के दौरान शैलेन्द्र अग्रवाल के पंचम तल के कई वरिष्ठ अफसरों, पूर्व डीजीपी एएल बनर्जी व एसी शर्मा से नजदीकियों के खुलासे हुये। जिनके मदद से वह तबादले, प्रोन्नति व पोस्टिंग कराता था।

यही नहीं कई सनसनीखेज प्रकरणों में फाइनल रिपोर्ट या बचाने के लिए भी मोटी रकम शैलेन्द्र द्वारा खर्च की गई थी। वह वरिष्ठ अफसरों को काम के एवज में मोटी रकम या फिर गिफ्ट दिया गया था। जांच में डीआईजी आगरा को कई ऐसे तथ्य मिलें थे। जिससे पुलिस विभाग में खलबली मच गयी थी। लिहाजा उच्चाधिकारियों ने डीआईजी आगरा को कुछ दिनों के लिए छुट्टी पर भेज दिया था। सूत्रों का कहना है कि छुट्टी से वापस लौटने के बाद जांच बिन्दुओं से कई तथ्य हटाने के लिए निर्देश दिया गया था।

यही नहीं वरिष्ठ अफसरों ने निर्देश दिया कि शैलेन्द्र अग्रवाल के खिलाफ धोखाधड़ी को लेकर दर्ज मामले की जांच की जाये। जिसके बाद डीआईजी के पर्यवेक्षण में डिप्टी एसपी के नेतृत्व में टीम गठित कर जांच शुरू की गई। सूत्र बता रहे है कि जांच में अब तक शैलेन्द्र, उनके परिवार के सदस्यों व करीबियों को क्लीनचिट दिया जा रहा है। उसे बचाने के लिए आगरा पुलिस हर सम्भव प्रयास में जुट गयी है।

सामाजिक कार्यकर्ता डा. नूतन ठाकुर ने इस केस की सीबीआई जांच कराने के लिए हाईकोर्ट में पीआईएल भी दायर कर रखी है जिस पर सुनवाई चल रही है।

सवाल-1 शैलेंद्र के साथ मुकदमों में नामजद उसके परिवारीजन और रिश्तेदार गैंग के सदस्यों के रूप में क्यों चिह्नित नहीं किए गए ?
सवाल-2 मुद्दई अपने बयान से नहीं पलटे हैं, फिर शैलेंद्र के साथ नामजद उसके परिवारीजनों को क्लीन चिट कैसे दे दी गई?
सवाल-3 शैलेंद्र के जेल में रहते उससे मोबाइल फोन पर बात करने वाले उसके रिश्तेदारों से अभी तक पूछताछ क्यों नहीं की गई?

Loading...