झारखंड कोयला घोटाले में मनमोहन सिंह को सीबीआई से मिली क्लीन चिट

नई दिल्ली। झारखंड कोयला घोटाले के मुख्य आरोपी व पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा द्वारा पूर्व प्रधानमंत्री डा0 मनमोहन सिंह पर कोयला घोटाले में संलिप्तता के आरोपों की जांच के बाद सीबीआई ने पूर्व प्रधानमंत्री को क्लीनचिट दे दी है। सीबीआई ने सोमवार को दिल्ली की पटियाला हाउस की सीबीआई बेंच के सामने कहा कि उसे कहीं कोई ऐसे साक्ष्य नहीं मिले हैं जिनके आधार कहा जाए कि मनमोहन सिंह ने जिंदल ग्रुप को कोयला खदान आवंटन करने में कोई भूमिका निभाई हो। फिलहाल अदालत इस मामले में अपना फैसला 16 अक्टूबर को सुनाएगी।

झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा ने अदालत के सामने कहा था कि तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने केन्द्रीय कोयला मंत्री रहते हुए जिन्दल ग्रुप को कोयला ब्लाॅक आवंटन करवाने में रुचि ली थी। अपने दावे में कहा था कि जिन्दल ग्रुप को कोल ब्लाॅक आवंटित करवाने के पीछे मनमोहन सिंह ने पर्दे के पीछे रहते हुए अहम भूमिका निभाई थी। उनकी सहमति से ही जिंदल ग्रुप को कोयला ब्लाॅक आंवटित हुआ था।

आपको बता दें कि मधु कोड़ा ने 2006 से 2008 के बीच मुख्यमंत्री रहते हुए 4000 करोड़ की कोयला घोटाले को अंजाम दिया। इस मामले में वर्ष 2009 में झारखंड पुलिस की विजीलेंस ने मधु कोड़ा को गिरफ्तार किया था। मधु कोड़ा के साथ इस मामले में 9 अन्य लोगों को भी सह आरोपी बनाया गया था। इस मामले की गंभीरता को देखते हुए झारखंड हाईकोर्ट ने मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी थी।