तांत्रिक ने मृत को जिंदा करने का किया दावा, मौका देख हुआ फरार

लखनऊ। राजधानी के मोतीनगर इलाके में अंध विश्वास को लेकर एक परिवार को मुश्किलों का सामना करना पड़ा। तांत्रिक मृत बेटी को जिंदा करने की बात कहकर रविवार देर रात तक नाटक करता रहा। शव से दुर्गंध उठनी शुरू हुई तो वह दुआ करने की बात कहकर खिसक लिया।

मिली जानकारी के मुताबिक मोतीनगर के कायमखेड़ा निवासी अमरनाथ विश्वकर्मा की बेटी अंजलि (14) मोतीनगर राजकीय विद्यालय में दसवीं की छात्रा थी। शनिवार को उसके पेट में दर्द उठा तो घर वालों ने उसे सिविल अस्पताल में भर्ती कराया। रविवार तड़के डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

उसकी बहन रीता को महसूस हुआ कि अंजलि का शरीर कुछ गरम है। उसने यह बात घर वालों को बताई तो अंजलि के शव को ट्रॉमा सेंटर ले जाया गया। वहां भी डॉक्टरों ने अंजलि को मृत घोषित कर दिया। दोपहर करीब 12 बजे परिवारीजन अंजलि का शव लेकर घर पहुंचे तभी ऐशबाग पुल के नीचे पंचर बनाने वाला खुद को तांत्रिक बताकर अमरनाथ के घर पहुंचा और तमाशा शुरू कर दिया।

 

Loading...