दस दिन पूर्व जिला अस्पताल से गायब हुई किशोरी अचानक रहस्यमय ढंग से बरामद

बिजनौर। दस दिन पूर्व जिला अस्पताल से गायब हुई किशोरी आज अचानक रहस्यमय ढंग से बरामद हो गई है। पुलिस ने किशोरी के ब्यान लेेने के बाद उक्त महिला से पूछताछ शुरू कर दी है। जिसके यहां पर किशोरी दस दिन से रह रही थी।

मालूम हो कि थाना कोतवाली शहर के ग्राम हसनपुरा उर्फ भोबनपुर निवासी जबर सिंह एक माह पूर्व छत से गिरकर गम्भीर रूप से घायल हो गया था। तभी से वह जिला असपताल के वार्ड संख्या 06 में भर्ती है। जबर सिंह के भाई टिंकू के अनुसार जबर सिंह के साथ उसका ध्यान रखने के लिए उसकी 11 वर्षीय बेटी नानू भी रह रही थी। टिंकू का कहना है कि बीती 10 अक्टूबर 15 की दोपहर जबर सिंह की बेटी उससे कुछ देर में आने की बात कहकर गई थी, उसके बाद से उसका कुछ पता नही चल सका।

परिजनो द्वारा उसी रात्री में ही नानू के लापता होनी की पुलिस को तहरीर दे दी थी। जबकि परिजनो को तभी से शक था कि उनकी बेटी को नहटौर क्षेत्र की एक आशा कार्यकत्री बेबी बहला फुसलाकर अपने साथ ले गई है। इसी बीच आज फिर बेबी जिला अस्पताल दवाई लेने के लिए पहुंची उसके साथ किशोरी नानू भी थी। किशोरी ने आशा कार्यकत्री बेबी को बताया कि मेरे पिता इसी अस्पताल में भर्ती है, यह सुनकर वह किशोरी को उसके पिता जबर सिंह के पास ले गई। पुत्री को देखते ही जबर सिंह व उसके अन्य परिजनो ने अस्पताल में हंगामा शुरू कर दिया, और इसकी सूचना पुलिस को दी।

मौके पर पहुंची पुलिस ने किशोरी नानू से घटना के संबन्ध में पूछताछ की तो उसकी कहानी सुनकर पुलिस भी सकते में आ गई। किशोरी ने पुलिस को ब्यान देते हुए बताया कि उसका पिता जबर सिंह उसे बहुत मारता था। पिता की मार से वही कई बार बेहोश भी हो जाती थी। इसी कारण वह बीती 10 अक्टूबर को जिला असपताल में दवाई लेने आई आशा कार्यकत्री बेबी के साथ यह कहकर चली गई थी कि उसके मां बाप बिछड गए है।

लेकिन बेबी पुलिस को सूचना दिए बगैर ही किशोरी को अपने साथ ले गई थी। लेकिन आज दोबारा फिर जिला अस्पताल में किशोरी को साथ लेकर आना किसी के गले नही उतर रहा है। लोगो का कहना है कि यदि बेबी जिला अस्पताल से बेबी का उपहरण करके ले गई थी तो फिर उसे वापस अस्पताल क्यों लाई। पुलिस ने किशोरी के ब्यान लेेने के बाद कार्यकत्री महिला से पूछताछ शुरू कर दी है।

बिजनौर से शहजाद अंसारी की रिपोर्ट

Loading...