दादरी कांड के घायल राहुल को 5 लाख की मदद देकर सांप्रदायिक पक्षपात के आरोपों में घिरी अखिलेश सरकार

लखनऊ। ग्रेटर नोएडा जिले में दादरी के बिसारा गांव में गौमांस खाने की अफवाह के बीच सोमवार को मौत के घाट उतारे गए इकलाख के परिजनों को 45 लाख रुपए की आर्थिक सहायता देकर यूपी के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने रविवार को विवाद को जन्म दे दिया है।

दरअसल, यूपी सरकार की ओर से बिसारा में ही पुलिस की कार्रवाई के दौरान घायल हुए राहुल यादव नामक युवक के परिजनों को भी 5 लाख की आर्थिक मदद देने की घोषणा की है और यह घोषणा यूपी सरकार ने राहुल की अनदेखी को लेकर की गई आलोचना के बाद की है। जिसके बाद से यूपी में भगवा राजनीति करने वालों ने इकलाख के परिजनों को मिले मुआवजे और घायल राहुल को मिले मुआवजे की तुलना कर यूपी सरकार पर आरोप लगाना शुरू कर दिया है कि सरकार मृतकों और घायलों का संप्रदाय देखकर आर्थिक मदद की सीमा तय करती है।

दादरी कांड में ही पुलिस की गोली से घायल हुए एक युवक राहुल यादव की ओर यूपी सरकार का ध्यान न जाने पर ही यह मामला रविवार को उस समय तूल पकड़ता दिखा था, जब इकलाख के परिजनों को लखनऊ बुलाकर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने मुलाकात कर आर्थिक मदद देने घोषणा की थी।

इसी दौरान मुजफ्फरनगर बीजेपी विधायक संगीत सोम ने भी रविवार को तनावग्रस्त गांव का दौरा करने के बाद मुआवजे को लेकर राहुल की अनदेखी का यह मुद्दा उठाया था। बीजेपी विधायक ने मीडिया के माध्यम से यूपी सरकार पर निशाना साधते हुए यूपी सरकार पर धर्म के आधार पर पक्षपात करने का आरोप लगाते हुए कहा था कि इसी गांव में पुलिस की गोली से राहुल यादव नामक युवक भी घायल हुआ।

मुख्यमंत्री ने उसका और उसके परिवार का हाल जानने की कोशिश नहीं की, राहुल भी अस्पताल में भर्ती है उसके परिजनों को भी आर्थिक मदद देनी चाहिए थी। ज्यादा नहीं देते तो 20 हजार, 5 हजार ही देते। जिसके बाद इस मुद्दे को तूल पकड़ने के बाद यूपी सरकार ने राहुल यादव के परिजनों को भी 5 लाख रूपए की आर्थिक मदद देने की घोषणा की है।

आपको बता दें कि यूपी सरकार ने दो दिन पूर्व ही इकलाख के परिवार को 20 लाख की आर्थिक मदद की घोषणा की थी, जिसके बाद रविवार को इकलाख के परिजनों से मुलाकात के बाद मुख्यमंत्री ने इकलाख के परिवार का मुआवजा बढ़ा कर 30 लाख कर दिया और उसके तीन भाईयों को भी 5-5 लाख की मदद दी।

वहीं मुख्यमंत्री ने अस्पताल में इलाज करवा रहे इकलाख के बेटे के इलाज का खर्च और भविष्य में नौकरी और मकान का प्रबंध करवाने की आश्वासन भी दिया था।

रिपोर्ट: मुनेन्द्र शर्मा

Loading...