दिल्ली के विधायकों का वेतन चार गुना और वाहन खर्चा आठ गुना बढ़ाने की तैयारी में आप सरकार

नई दिल्ली। देश की राजनीति पर हावी वीवीआईपी कल्चर और असीम सुख सुविधाओं वाली व्यवस्था को नकारने वाली दिल्ली की सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी की सरकार जल्द ही विधायकों के वेतन को चार गुना बढ़ाने वाली है। इतना ही नहीं इसके साथ ही सरकार विधायकों को मिलने वाले वाहन खर्चें में आठ गुने से ज्यादा की बढ़ोत्तरी करने जा रही है।

मिली जानकारी के मुताबिक दिल्ली के विधायकों को अभी तक मासिक वेतन के रूप में 12000 रु0 और वाहन खर्च के रूप में प्रति माह 6000 रु0 मिला करते है। तमाम अन्य भत्ते मिलाकर एक विधायक को करीब 85 हजार रुपए प्रतिमाह कुल वेतन मिलता है। जिसे 14 फरवरी को मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल के नेतृत्व में बनी नई आप सरकार ने बढ़ाने का फैसला लिया है। जिसके लिए गठित की गई कमेटी ने अपने अध्यक्ष विधानसभा स्पीकर को अपनी सिफारिश सौंप दी है। उम्मीद की जा रही है जल्द ही इस सिफारिश को लागू कर दिया जाएगा।

दिल्ली विधानसभा के स्पीकर रामनिवास गोयल की अध्यक्षता में गठित की गई कमिटी की सिफारिश के अनुसार दिल्ली के विधायकों का मूल वेतन 50000 रुपए होना चाहिए। इसके साथ ही उनके वाहन का खर्च भी 50000 रुपए होना चाहिए। कमेटी ने विधायकों की जिस मांग को रिपोर्ट में साझा किया है उसके मुताबिक विधायकों का कहना है कि मौजूदा वेतन से उनका गुजारा नहीं हो पा रहा है। जनसंपर्क आदि में ही उनका सारा वेतन खर्च हो जा रहा है। ऐसे में उन्हें अपने निजी खर्चे पूरे नहीं हो पा रहे हैं। बताया जा रहा है कि जल्द ही वेतन बढ़ाने वाली कमिटी की सिफारिश को दिल्ली विधानसभा में मंजूर कर लिया जाएगा। जिसके बाद दिल्ली के विधायकों को प्रतिमाह मिलने वाला कुल वेतन करीब 1,65000 रुपए हो जाएगा।

आपको बता दें कि 70 विधायकों वाली दिल्ली विधानसभा में 67 विधायक सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी के हैं, जबकि केवल तीन विधायक विपक्षी दल बीजेपी के हैं।