दो दर्जन प्रोडक्ट्स हो सकते हैं सस्ते, GST काउंसिल जल्द ले सकती है फैसला

GST
दो दर्जन प्रोडक्ट्स हो सकते हैं सस्ते, GST काउंसिल जल्द ले सकती है फैसला

नई दिल्ली। देश में 1 जुलाई से लागू हो चुके गुड्स एंड सर्विस टैक्स (GST) में सामने आ रहीं विसं​गतियों पर जीएसटी काउंसिल लगातार अपनी नजर बनाए हुए है। जिसके लिए केन्द्रीय​ वित्त मंत्री अरुण जेटली के नेतृत्व में बनी जीएसटी काउंसिल समय-समय पर बैठक कर सुधार के लिए आने वाले सुझावों पर विचार करती है। हाल ही में हुई बैठक में जीएसटी काउंसिल ने एसयूवी और मंहगी कारों पर लगने वाले सेस को बढ़ाकर 25 प्रतिशत करने का फैसला लिया है। इसके अलावा काउंसिल ने करीब दो दर्जन उत्पादों की जीएसटी दर को कम करने की संस्तुति की है।

मिली जानकारी के मुताबिक भुने चने, सूखी इमली जैसे उत्पादों को 12 प्रतिशत के जीएसटी स्लैब से हटाकर 5 प्रतिशत वाले स्लैब में डाला जाएगा। पूजन सामग्री, धूप बत्ती, अगरबत्ती जैसे उत्पादों को 5 प्रतिशत वाले स्लैब में डाला जाएगा। कस्टर्ड पाउडर, रेनकोट, राइस रबर रोल और गैस लाइटर जैसे कुछ उत्पादों को 28 प्रतिशत के स्लैब से 18 प्रतिशत स्लैब में शामिल किया जाएगा।

{ यह भी पढ़ें:- GST : सस्ती चीजें महंगी बेचीं तो खैर नहीं, सरकार करेगी यह उपाय... }

इसके अलावा आम खाद्य पदार्थों की श्रेणी में आने वाले कुछ अन्य प्रोडक्टस और टेक्सटाइल प्रोडक्ट्स के जीएसटी स्लैब बदले जा सकते हैं। हालांकि इन परिवर्तनों को कब से लागू किया जाएगा यह अभी स्पष्ट नहीं हो सका है। इन परिवर्तनों पर 9 सितंबर को हैदराबाद में होने वाली जीएसटी काउंसिल की बैठक में निर्णय लिया जा सकता है।

बताया जा रहा है कि नॉन ब्रांडेड डिब्बाबंद खाद्य उत्पादों को जीएसटी से हटाने और ब्रांडेड डिब्बाबंद खाद्य उत्पादों पर 5 प्रतिशत जीएसटी लगाने के फैसले के बाद कई कंपनियों ने अपने ब्रांड रजिस्ट्रेशन को निरस्त करवाया है। जीएसटी काउंसिल का मानना है कि ऐसा सिर्फ टैक्स बचाने के लिए किया जा रहा है। इस विषय पर जीएसटी काउंसिल जल्द फैसला लेगी।

{ यह भी पढ़ें:- राम विलास पासवान: GST की नई दरों के बाद अब छापने होंगे नए एमआरपी }

Loading...