नाराज़ होकर राष्ट्रपति ने बीच में ही रोक दिया अपना भाषण

राष्ट्रपति, Ramnath Kovind
राष्ट्रपति ने चैत्र शुक्लादि, उगाडी, गुडी पाडवा, चैती चांद, नवरेह एवं साजीबु चैराओबा की बधाई दी

नई दिल्ली। देश के राष्ट्रपति को अपना भाषण रोकना पड़ जाए इससे खराब स्थिति और क्या हो सकती है हालांकि ऐसा हमेशा नहीं होता लेकिन आज हुआ। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद आज इंडियन इकोनॉमिक असोसिएशन (आईईए) के सम्मेलन में पहुंचे थे जहां खाने-पीने की चीजों को लेकर अफरातफरी मच गयी जिससे नाराज़ राष्ट्रपति ने बीच में ही अपना भाषण रोक दिया। करीब दो मिनट के रुके रहने के बाद भी जब स्थिति सामान्य नहीं हुई तो कोविन्द को सख्त लहजे में आयोजकों को फटकार लगानी पड़ी।

दरअसल राष्ट्रपति के संबोधन के दौरान ही प्रतिनिधियों को खाना बांटा जा रहा था जिससे नाराज होकर उन्होंने कुछ देर के लिए अपना भाषण रोक दिया। उन्होंने आयोजकों को सख्त लहजे में कहा कि संबोधन पूरा होने तक पैकेट बांटना बंद करें ।

{ यह भी पढ़ें:- व्लादिमीर पुतिन ने चौथी बार रूस के राष्ट्रपति पद की ली शपथ }

कोविंद ने कहा कि आर्थिक जगत में जो कुछ हो रहा है वही तस्वीर मैं इस सम्मेलन में भी देख रहा हूं । मुझे लगता है कि खाने के पैकेट बांटे जा रहे हैं। निश्चित तौर पर यह जरूरी है लेकिन इसने तो व्यवस्था को ही गड़बड़ कर दिया ह । खाने के पैकेटों का वितरण रोकने के लिए पुलिस कर्मियों एवं अधिकारियों की ओर से दिए गए दखल के बीच उन्होंने कहा कि लिहाजा मैं आयोजकों से अनुरोध करता हूं, क्या वे कुछ देर के लिए खाने के पैकेटों का वितरण रोकेंगे। इसके बाद राष्ट्रपति ने अपना संबोधन पूरा किया।

{ यह भी पढ़ें:- मजदूर दिवस: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दी कामकाजी लोगों को शुभकामनाएं }

नई दिल्ली। देश के राष्ट्रपति को अपना भाषण रोकना पड़ जाए इससे खराब स्थिति और क्या हो सकती है हालांकि ऐसा हमेशा नहीं होता लेकिन आज हुआ। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद आज इंडियन इकोनॉमिक असोसिएशन (आईईए) के सम्मेलन में पहुंचे थे जहां खाने-पीने की चीजों को लेकर अफरातफरी मच गयी जिससे नाराज़ राष्ट्रपति ने बीच में ही अपना भाषण रोक दिया। करीब दो मिनट के रुके रहने के बाद भी जब स्थिति सामान्य नहीं हुई तो कोविन्द को सख्त लहजे में…
Loading...