बयानबाजी बंद कर दादरी आएं मुस्लिमों के रहनुमा आजम: औवेसी

हैदराबाद। उत्तर प्रदेश के दादरी के बिसाहड़ा गांव में गौमांस पकाने की अफवाह के बाद अखलाक नाम के अधेड़ की पीट-पीटकर हत्या मामले में राजनीति गर्मा गई है। शुक्रवार को इस मामले में ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के अध्यक्ष असदुद्दीन औवेसी ने सपा, भाजपा और मंत्री मो0 आजम खां पर जबकि प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भाजपा और पीएम नरेन्द्र मोदी पर हमला बोला|

औवेसी ने कहा कि, नफरत में अखलाक का कत्ल किया गया। इसके लिए साजिश रची गई और अफवाह फैलाकर अखलाक की हत्या की गई। यह दुखद बात है कि यूपी सरकार चुप है। आजम खान को आड़े हाथों लेते हुए उन्होंने कहा कि यूपी में वह सपा के मुस्लिम फेस हैं| उन्हें बयानबाजी बंद करके दादरी आना चाहिए लेकिन उनकी सरकार मौत पर राजनीति कर रही है|

ओवैसी ने उत्तर प्रदेश की समाजवादी पार्टी सरकार को नाकारा बताया जो कि चुपाचाप बैठी हुई है और कुछ कर नहीं रह रही है। ओवैसी ने कहा कि सपा सरकार ने मृतक के घरवालों को 10 लाख रुपये देने का ऐलान किया है। लेकिन, हत्या करने वालों के खिलाफ क्या कार्रवाई हुई। उन्होंने कहा कि क्या हमारा लोकतंत्र ‘बनाना रिपब्लिक’ बन गया है? ये मानकर कि एक आदमी ने गोमांस खाया है-हालांकि इस मामले में यह भी साबित नहीं हुआ है- क्या एक भीड़ मंदिर से ऐलान करेगी और उसे मार डालेगी? फिर कानून, पुलिस, कचहरी का क्या? बंद कर दीजिए इन्हें।

ओवैसी यहीं नहीं रुके उन्होंने पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि, उन्होंने आशा भोंसले के बेटे के इंतकाल पर ट्वीट कर संवेदना जताई जबकि अखलाक की हत्या पर कुछ नहीं कहा। हमें उम्मीद थी कि सबका साथ सबका विकास की बात करने वाले पीएम इस पर जरूर ट्वीट करेंगे। उन्होंने आरोपियों को जल्द गिरफ्तार करने और तय समयसीमा में सजा देने की मांग की और कहाकि गोश्त की जांच के बजाय दोषियों के दिमाग की जांच की जानी चाहिए। देखना चाहिए कि उनके दिमाग में कितना जहर भरा हुआ है। यह मांस पर नहीं मजहब के नाम पर हत्या है।

वहीं यूपी के सीएम अखिलेश यादव ने कहाकि दादरी कांड की वजह पिंक रेवॉल्यूशन(गुलाबी क्रांति/मांस क्रांति) है। उन्होंने कहाकि, अफवाहों में कुछ नहीं होता लेकिन इनकी वजह से बहुत कुछ हो जाता है। कुछ लोग पिंक रेवॉल्यूशन की बात करते थे। पिंक रेवॉल्यूशन वाली सरकार अब सत्ता में है तो इस पर रोक क्यों नहीं लगाती। उत्तर प्रदेश के मंत्री आजम खान ने भी गौमांस को लेकर कानून बनाने की मांग की। उन्होंने कहाकि इनके कारण काफी झगड़े हो रहे हैं। आम चुनाव से पहले कैंपेन के दौरान मोदी ने केंद्र की तत्कालीन सरकार पर निशाना साधते हुए कहा था कि बूचड़खाने चलाने वालों और बीफ एक्सपोर्ट करने वालों को यूपीए सब्सिडी और टैक्स में छूट दे रही है। मोदी के मुताबिक, देश हरित या श्वेत क्रांति चाहता है, लेकिन दिल्ली की सरकार सिर्फ पिंक रिवोल्यूशन चाहती है। जानवर को जब काटा जाता है तो उसके मांस का रंग पिंक होता है।

उधर बीजेपी सांसद महंत योगी आदित्यनाथ ने दादरी की घटना के लिए प्रदेश सरकार को जिम्मेदार ठहराया| योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उत्तर प्रदेश में शासन समाजवादी पार्टी कर रही है| आज़म खान का नाम मुजफ्फरनगर दंगों में आया था और अगर कहें तो आज़म खान के अनावश्यक हस्तक्षेप और अपराधियों को थानों से छुड़ाने के कारण ही मुजफ्फरनगर दंगा हुआ था| गोहत्या सरकार की पूर्ण विफलता को प्रदर्शित करता है और इस कार्यों में लिप्त तत्वों पर पुलिस की कार्यवाई नहीं होने से जनता में जो आक्रोश बढ़ता जा रहा है दादरी की घटना उसी का परिणाम है|