बाल अधिकारों के लिए काम करने वाले कैलाश सत्यार्थी को ‘ह्यूमेनिटेरियन’ सम्मान

वॉशिंगटन। बाल अधिकारों और उनकी सुरक्षा के लिए नोबल पुरस्कार प्राप्त कर चुकें कैलाश सत्यार्थी को हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के ‘ह्यूमेनिटेरियन’ से सम्मानित किया गया है| कैलाश यह पुरस्कार पाने वाले पहले भारतीय हैं|

 गौरतलब है कि दुनिया के प्रतिष्ठित विश्व यूनिवर्सिटीमें से एक हार्वर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा हर साल दिया जाना वाला यह पुरस्कार उन लोगों को दिया जाता है जो लोग दूसरे लोगों के जीवन को नये मायने देने और उन्हे बेहतर बनाने का काम करतें है| इस बार यूनिवर्सिटी ने इस पुरस्कार के लिए कैलाश को चुना है|

यूनिवर्सिटी की तरफ से जारी बयान मे कहा गया है कि बच्चों को दासता से मुक्त कराने और उनके जीवन को बेहतर बनाने के लिए भारत के कैलाश सत्यार्थी को ‘ह्यूमेनिटेरियन’ पुरस्कार दिया जाता है| गौरतलब है कि अभी हाल ही में कैलाश ने संयुक्त राष्ट्र (UN)) के सतत विकास लक्ष्यों में बाल संरक्षण और उनके कल्याण से संबंध रखने वाले प्रावधानों को शामिल कराने सफलता हासिल की|

पुरस्कार ग्रहण करने के बाद कैलाश ने कहा कि मैं यह पुरस्कार उन लाखों वंचित बच्चों की तरफ से स्वीकार कर रहा हूँ जिनके अधिकारों की रक्षा के लिए हम प्रयास कर रहे हैं|

 

 

 

Loading...