बॉर्डर पर 47 नए आउटपोस्ट बनाने जा रही भारतीय तिब्बत सीमा पुलिस

1-62

नई दिल्ली: लद्दाख के गलवान घाटी चीन के धोखे के बाद भारत अपनी सीमाओं पर पूरी तरह से सतर्क हो गया है। भारतीय तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP) वास्तविक नियंत्रण रेखा पर 47 अतिरिक्त बॉर्डर आउटपोस्ट (BOP) पर जवानों की तैनाती बढ़ाने की तैयारी कर रहा है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने इस साल के शुरू में इसकी मंजूरी दी थी। बता दें कि गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ खूनी झड़प में भारत के 20 जवान शहीद हुए हैं। चीन के भी 43 सैनिकों के मारे जाने की खबर है।

%e0%a4%ac%e0%a5%89%e0%a4%b0%e0%a5%8d%e0%a4%a1%e0%a4%b0 %e0%a4%aa%e0%a4%b0 47 %e0%a4%a8%e0%a4%8f %e0%a4%86%e0%a4%89%e0%a4%9f%e0%a4%aa%e0%a5%8b%e0%a4%b8%e0%a5%8d%e0%a4%9f %e0%a4%ac%e0%a4%a8%e0%a4%be :

चीन से तनातनी के बीच ITBP ने अपने चंडीगढ़ और गुवाहाटी में अपने वेस्टर्न और ईस्टर्न कमांड को शुरू कर दिया है और जून के पहले हफ्ते में यहां के प्रमुखों की भी नियुक्ति कर दी है। पिछले साल अक्टूबर में केंद्रीय कैबिनेट ने इस पद को मंजूरी दी थी।

अधिकारियों ने बताया कि वेस्टर्न कमांड चीन से लगते लद्दाख, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड की सीमा की निगरानी करेगा जबकि ईस्टर्न कमांड उत्तर और पूर्वोत्तर सीमा, जिसमें सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश शामिल हैं की निगरानी का जिम्मा संभालेगा।

47 BOP में 34 को अरुणाचल में बनाने की योजना है जबकि 5 वेस्टर्न कमांड में बनेंगे। यह हिमालय इलाके में अस्थायी 12 BoP पोस्ट के अलावा होगा। इन पोस्टों के जरिए ITBP के जवानों को राशन और ठहरने की जगह उपलब्ध कराई जाती है। बता दें कि इन BOP में भर्तियां और ट्रेनिंग कोविड-19 महामारी के कारण देरी हुई है।

मार्च में ITBP के सेंटर्स को विदेशों से लौट रहे भारतीयों के लिए क्वारंटीन सेंटर के रूप में बदल दिया गया था। बाद में इसका इस्तेमाल केंद्रीय सुरक्षा बलों, सीबीआई, NIA और IB के कोविड-19 पीड़ित जवानों के इलाज के लिए किया जाने लगा। 16 जून तक ITBP के इन सेंटरों पर करीब 130 जवानों का इलाज चल रहा है।

नई दिल्ली: लद्दाख के गलवान घाटी चीन के धोखे के बाद भारत अपनी सीमाओं पर पूरी तरह से सतर्क हो गया है। भारतीय तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP) वास्तविक नियंत्रण रेखा पर 47 अतिरिक्त बॉर्डर आउटपोस्ट (BOP) पर जवानों की तैनाती बढ़ाने की तैयारी कर रहा है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने इस साल के शुरू में इसकी मंजूरी दी थी। बता दें कि गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ खूनी झड़प में भारत के 20 जवान शहीद हुए हैं। चीन के भी 43 सैनिकों के मारे जाने की खबर है। चीन से तनातनी के बीच ITBP ने अपने चंडीगढ़ और गुवाहाटी में अपने वेस्टर्न और ईस्टर्न कमांड को शुरू कर दिया है और जून के पहले हफ्ते में यहां के प्रमुखों की भी नियुक्ति कर दी है। पिछले साल अक्टूबर में केंद्रीय कैबिनेट ने इस पद को मंजूरी दी थी। अधिकारियों ने बताया कि वेस्टर्न कमांड चीन से लगते लद्दाख, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड की सीमा की निगरानी करेगा जबकि ईस्टर्न कमांड उत्तर और पूर्वोत्तर सीमा, जिसमें सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश शामिल हैं की निगरानी का जिम्मा संभालेगा। 47 BOP में 34 को अरुणाचल में बनाने की योजना है जबकि 5 वेस्टर्न कमांड में बनेंगे। यह हिमालय इलाके में अस्थायी 12 BoP पोस्ट के अलावा होगा। इन पोस्टों के जरिए ITBP के जवानों को राशन और ठहरने की जगह उपलब्ध कराई जाती है। बता दें कि इन BOP में भर्तियां और ट्रेनिंग कोविड-19 महामारी के कारण देरी हुई है। मार्च में ITBP के सेंटर्स को विदेशों से लौट रहे भारतीयों के लिए क्वारंटीन सेंटर के रूप में बदल दिया गया था। बाद में इसका इस्तेमाल केंद्रीय सुरक्षा बलों, सीबीआई, NIA और IB के कोविड-19 पीड़ित जवानों के इलाज के लिए किया जाने लगा। 16 जून तक ITBP के इन सेंटरों पर करीब 130 जवानों का इलाज चल रहा है।