भाजपा नेता की मौत के बाद समर्थकों ने दिखाया गुस्सा, लगा कर्फ़्यू  

भोपाल। मध्य प्रदेश के सिवनी जिले में स्थित बरघाट कस्बे में बीते दिनों मारपीट के दौरान घायल हुए सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी के नेता कूपर चंद्र ठाकरे की इलाज के दौरान रविवार देर रात मौत हो गई। उनकी मौत के बाद  सोमवार को उनके समर्थकों ने अपना गुस्सा कई दुकानों व वाहनों पर निकाला है। उन्होने क्षेत्र में इस कदर आगजनी व तोडफोड की है कि प्रशासन को बरघाट कस्बे में कर्फ़्यू लगाना पड़ा है।

पुलिस के अनुसार, लोहारा गांव के पूर्व सरपंच और वर्तमान में भाजपा के मंडल महामंत्री ठाकरे की कार से तीन अक्टूबर को एक साइकिल सवार को टक्कर लग गई थी, उसके बाद मोटरसाइकिल पर सवार होकर आए दो युवक नासिर व रजा ने अपने साथियों के साथ उनकी जमकर पिटाई कर दी थी, जिसमें ठाकरे बुरी तरह घायल हो गए थे। हालत गंभीर होने पर उन्हें उपचार के लिए नागपुर भेजा गया था, जहां रविवार की देर रात उनकी मौत हो गई। 

ठाकरे की मौत की खबर आते ही बरघाट क्षेत्र के लोग सड़कों पर उतर आए और उन्होंने एक खास वर्ग के लोगों की दुकानों को निशाना बनाया। जमकर पथराव हुआ और कई वाहनों में तोड़फोड़ कर आग लगा दी गई। मौके पर पहुंचे जिलाधिकारी भरत यादव की कार पर भी पत्थर फेंके गए, जिससे उनकी कार का शीशा चकनाचूर हो गया।

बरघाट के अनुविभागीय अधिकारी, पुलिस (एसडीओपी) अशोक चौरसिया ने बताया कि भीड़ के उपद्रव के चलते कई वाहनों और दुकानों को नुकसान पहुंचा है और बरघाट क्षेत्र में कर्फ्यू लगा दिया गया है।  ठाकरे से मारपीट करने वाले दोनों आरोपी पहले ही गिरफ्तार किए जा चुके हैं।