भाजपा सांसद सत्यपाल सिंह ने दादरी कांड को बताया मामूली, विपक्ष ने जताई नाराजगी  

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के गौतमबुद्ध नगर में बीते 29 सितंबर को हुआ दादरी कांड ने एक बार फिर राजनीतिक गलियारों को गर्म कर दिया है। यह गर्माहट उत्तर प्रदेश के बागपत संसदीय क्षेत्र के भाजपा सांसद सत्यपाल सिंह के उस बयान के बाद पैदा हुई है जिसे उन्होने एक टीवी चैनल को दिये जा रहे इंटरव्युव में दिया। दरअसल, सत्यापल सिंह ने दादरी कांड को एक मामूली घटना करार दिया है। भाजपा सांसद के इस बयान के बाद एक बार फिर विपक्षी राजनीतिक दलों ने भाजपा पर निशाना साधना शुरू कर दिया है। इस बयान पर विपक्ष ने हमला बोलते हुए कहा कि यह भारतीय जनता पार्टी की ध्रुवीकरण की रणनीति की झलक दिखाता है। 

टीवी चैनल द्वारा लिए जा रहे साक्षात्कार में भाजपा सांसद सत्यपाल सिंह ने कहा कि जहां तक दादरी जैसी छोटी सी घटना का सवाल है, अपने देश का लोकतांत्रिक माहौल इससे निपटने में पूरी तरह से सक्षम है। हमारा देश ऐसी घटनाओं से निपटने में पूरी तरह से सक्षम है। उन्होने यह भी कहा कि सरकार को मुस्लिमों और साथ ही अन्य आस्थाओं को अपनाने वालों की समस्याओं पर गौर करने की जरूरत है। विपक्ष ने बीजेपी सांसद के बयान पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है।

सत्यपाल के इस बयान पर विपक्षी दलों ने भाजपा पर निशाना साधा शुरू कर दिया है। उनके इस बयान पर कांग्रेस ने कड़ी प्रतिक्रिया जताते हुए कहा कि सतपाल का बयान भाजपा के प्रयासों के प्रतिबिंब का उदाहरण है। यह बयान कांग्रेस प्रवक्ता अजय कुमार ने दिया है। अजय कुमार ने भाजपा सांसद के इस बात पर निराशा जताते हुए आरोप लगाया है कि ऐसी टिप्पणी समुदाय के ध्रुवीकरण के जरिये सत्ता हासिल करने की भाजपा की मंशा को दर्शाती है।

वहीं सपा नेता राजीव राय ने भाजपा के इस बयान पर जमकर नाराजगीओ जताई है और भाजपा से माफी मांगने की मांग की है। राय ने आरोप लगाया कि इस तरह के बयान का उद्देश्य सांप्रदायिक ध्रुवीकरण है जो अभी और दिखेगा क्योंकि उत्तर प्रदेश में 2017 में विधानसभा चुनाव होने जा रहे हैं। उन्होने कहा कि अगर दादरी मामूली घटना है, तो बड़ी घटना क्या है। उन्होंने कहा कि बीजेपी सांसद को माफी मांगनी चाहिए। उन्होंने इस बात पर निराशा जताई कि यह बयान एक सांसद की ओर से आ रहा है, जो खुद पुलिस आयुक्त भी रहे हैं।