मध्य प्रदेश: दाल जमाखोरों पर छापे, पांच करोड़ की दाल जब्त

नई दिल्ली। एक तरफ जहां जनता दाल की बढ़ी हुई कीमतों से परेशान है वहीं मध्य प्रदेश प्रशासन ने अहम कदम उठाते हुए दाल की बढ़ती कीमतों पर नियंत्रण के लिए स्टाक सीमा तय करने के बाद रविवार में थोक दाल व्यापारियों व किराना व्यापारियों के यहां छापे मारे। 
जानकारी के अनुसार, अब तक 5 करोड़ से ज्यादा की दाल जब्त हो चुकी है। आवश्यक वस्तू अधिनियम में दाल को शामिल किए जाने के बाद इंदौर के दाल मिलों का जो नजारा सामने आया चौंकाने वाला था। रविवार को इंदौर के एक दो तीन नहीं बल्कि दर्जन से ज्यादा दाल मिल पर प्रशासन ने छापे मारा। जमाखोरों के खिलाफ कार्रवाई के बाद व्यापारियों में हड़कंप मचा हुआ है। प्रशासनिक कार्रवाई के खिलाफ सड़क पर आ गए हैं।

इंदौर और दाल का कटोरा कहे जाने वाले नरसिंहपुर से पूरे देश में दाल सप्लाइ होती है। नरसिंहपुर में भी दाल मिल पर जब छापा मारा गया तो यहां की इंदौर से भी बदतर थी। देश में दाल के लिए कोहराम मचा है और यहां तो दाल को सोना बनाया जा रहा है।

नरसिंहपुर के मिल की हालत तो और घबराहट पैदा करती हैं। छापेमारी में जो सच सामने आया है इसकी हकीकत बस इतना जानिए कि सिर्फ एक मिल से 5 करोड़ पचास हजार से ज्यादा की दाल बरामद की गयी है और यहां तो मिल का भंडार है।

Loading...