मुलायम मामले में अमिताभ ठाकुर ने विवेचक के सामने दर्ज कराया अपना बयान

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी के मुखिया प्रमुख मुलायम सिंह यादव द्वारा 10 जुलाई 2015 को आईपीएस अफसर अमिताभ ठाकुर को फोन पर धमकी देने के मामले में पूर्व सीजेएम सोम प्रभा मिश्रा के आदेशों पर थाना हजरतगंज, लखनऊ में दर्ज एफआईआर में ठाकुर ने मंगलवार को विवेचक केएन तिवारी के सामने जा कर धारा 161 सीआरपीसी में अपना बयान दर्ज कराया।

विवेचक तिवारी ने ठाकुर का बयान दर्ज करने के अलावा उनसे यह भी पूछा कि क्या उन्होंने पूर्व में एडीजी अभियोजन आर एन सिंह और मौजूदा निदेशक सतर्कता भानु प्रताप सिंह के खिलाफ भी एफआईआर दर्ज कराया है। विवेचक ने यह भी पूछा कि क्या मुलायम सिंह उनके पटना स्थित घर पर गए थे, वे पहले कितने बार मुलायम सिंह से मिले हैं और उनके मुलायम सिंह से कैसे सम्बन्ध हैं।

चार दिन पहले ठाकुर ने विवेचक को धमकी की सीडी प्रदान की थी। साथ ही उनके द्वारा 26 जुलाई 2006 को थाना एका, फिरोजाबाद में तत्कालीन विधायक रामवीर सिंह द्वारा आपराधिक हमला करने के सम्बन्ध में पंजीकृत कराये गए एफआईआर की कॉपी और पत्नी डॉ नूतन ठाकुर द्वारा थाना गोमतीनगर, जनपद लखनऊ में मंत्री गायत्री प्रजापति के खिलाफ दर्ज एफआईआर की प्रति भी उन्हें दी थी।