मोदी को धक्का देकर प्रधानमंत्री बनना चाहते हैं अमित शाह: लालू

पटना। बिहार में होने वाले विधानसभा चुनाव के चलते राज्य में राजनीतिक दलों के बीच जारी आरोप-प्रत्यारोप के दौर के बीच में महागठबंधन में शामिल राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के मुखिया लालू प्रसाद यादव ने एक बार फिर राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन की अगुआ भाजपा पर निशाना साधा है। दरअसल, लालू ने गुरुवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस का आयोजन कर एक बार फिर आरक्षण का मुद्दा उठाया है। उन्होने प्रधानमंत्री मंत्री नरेंद्र मोदी पर आरक्षण के मुद्दे पर चुप्पी साधने का आरोप लगाया। साथ ही उन्होने यह भी कहा कि भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह मोदी को धक्का देकर प्रधानमंत्री बनना चाहते हैं।

राजद मुखिया ने कहा कि मोदी आरक्षण के मुद्दे पर चुप्पी क्यों साधे हुए हैं। उनकी चुप्पी से साफ है कि वह आरक्षण समाप्त करने को लेकर दिए गए आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के बयान का समर्थन करते हैं। इसके साथ ही कहा कि प्रधानमंत्री को संघ प्रमुख के बयान की निंदा करनी चाहिए। लालू ने आरोप लगाया कि मोदी जी शुरू से ही दलित विरोधी हैं।

लालू ने मोदी की लिखी पुस्तक ‘कर्मयोग’ का हवाला देते हुए कहा कि इसमें मोदी जी ने लिखा है कि मैला ढोना, कचरा उठाना, गंदगी उठाने जैसा मलीन काम दलित अपनी मर्जी और खुशी से करता है, क्योंकि इससे दलितों को अध्यात्मिक शांति और शक्ति मिलती है। उन्होंने कहा कि दलित भाई पीएम मोदी से पूछना चाहते हैं कि इन कार्यों से अगर शांति और शक्ति मिलती है, तो उन्होंने ये काम क्यों नहीं किया।

लालू ने कहा कि 40 साल पहले काशी विश्वविद्यालय के सरसंचालक ने विश्वविद्यालय में दलितों के प्रवेश पर रोक लगा थी। वहीं उन्होंने ये भी कहा कि आरएसएस भी मंदिर में दलितों के प्रवेश के खिलाफ था।