यादव सिंह मामला: मायावती के कारनामों की भी जांच करे सीबीआई

%e0%a4%af%e0%a4%be%e0%a4%a6%e0%a4%b5 %e0%a4%b8%e0%a4%bf%e0%a4%82%e0%a4%b9 %e0%a4%ae%e0%a4%be%e0%a4%ae%e0%a4%b2%e0%a4%be %e0%a4%ae%e0%a4%be%e0%a4%af%e0%a4%be%e0%a4%b5%e0%a4%a4%e0%a5%80 %e0%a4%95

लखनऊ| नोएडा, नोएडा विकास प्राधिकरण और यमुना एक्सप्रेसवे के चीफ इंजीनियर रहे यादव सिंह की काली कमाई की जांच कर रही केंद्रीय जाँच एजेंसी सीबीआई से इंडिया रीजुवेनेशन इनीशियेटिव संगठन (आईआरआई) ने इस संदर्भ में पूर्व मुख्यमंत्री मायावती की भी जांच करने का आग्रह किया है। आईआरआई के सदस्यों ने सीबीआई के निदेशक अनिल कुमार सिन्हा को लेटर भेज कर कहा है कि सीबीआई जो जांच कर रही है, उसकी प्रगति असंतोषजनक है। कहीं ऐसा न हो कि सीबीआई की ढिलाई का आरोपियों को लाभ मिले और वे महत्वपूर्ण साक्ष्य मिटाने में सफल हो जाएं।

आईआरआई के सदस्य पूर्व डीजी आईसी द्विवेदी ने सीबीआई के निदेशक को जो पत्र लिखकर भेजा है, उसमें कहा है कि सीबीआई को सांसद किरीट सोमैया द्वारा पूर्व में यूपी की बसपा सरकार की मुख्यमंत्री मायावती के खिलाफ प्रस्तुत किए साक्ष्यों को भी इसी मामले की जांच के संदर्भ में परखना चाहिए। कहा गया है कि यादव सिंह ने जो करोड़ों का घोटाला किया वह बसपा सरकार के कार्यकाल में ही शुरू हो गया था।

आईआरआई ने सीबीआई निदेशक से यह भी मांग की है कि यादव सिंह केस की तफ्तीश में तेजी लाई जाए। इसमें आईआरआई ने सीबीआई को मदद मुहैया कराने का आश्वासन दिया है। सीबीआई की यादव सिंह प्रकरण की जांच में ढिलाई बरतने के कई कारण बताए गए हैं।

लखनऊ| नोएडा, नोएडा विकास प्राधिकरण और यमुना एक्सप्रेसवे के चीफ इंजीनियर रहे यादव सिंह की काली कमाई की जांच कर रही केंद्रीय जाँच एजेंसी सीबीआई से इंडिया रीजुवेनेशन इनीशियेटिव संगठन (आईआरआई) ने इस संदर्भ में पूर्व मुख्यमंत्री मायावती की भी जांच करने का आग्रह किया है। आईआरआई के सदस्यों ने सीबीआई के निदेशक अनिल कुमार सिन्हा को लेटर भेज कर कहा है कि सीबीआई जो जांच कर रही है, उसकी प्रगति असंतोषजनक है। कहीं ऐसा न हो कि सीबीआई की…