यूपी: सीएम कार्यालय को बम से उड़ाने की धमकी

लखनऊ। मुख्यमंत्री कार्यालय को बम से उड़ाने की धमकी मिलने के बाद पुलिस ने आनन-फानन में फोन नंबर ट्रेस कर एक किशोर को उठा लिया। हालांकि किशोर के नाबालिक होने के चलते पुलिस ने पूछताछ के बाद उसे छोड़ दिया। पुलिस के मुताबिक किशोर गाजीपुर के नंदगंज इलाके के डंडापुर का रहने वाला है। 

पुलिस के मुताबिक डंडापुर निवासी किशोर वाराणसी में उदयपुर स्थित राजकीय आश्रम पद्धति इंटर कालेज में 12वीं का छात्र है। वह कालेज में सरकारी सुविधाएं नहीं मिलने से नाराज था। कुछ दिन पूर्व उसने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर जांच की मांग की थी। काफी इंतजार के बाद जब कोई सुनवाई नहीं हुई तो वाराणसी के डीएम व समाज कल्याण अधिकारी को पत्र लिखा लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई।

तीन दिन पहले उसने मुख्यमंत्री कार्यालय में फोन मिलाया और खुद को आइएसआइ का एजेंट बताते हुए धमकी दी कि वह सीएम कार्यालय को बम से उड़ा देगा। फोन आने के बाद हड़कंप मच गया। नंबर की जांच-पड़ताल की गई तो वह गाजीपुर का निकला। अधिकारियों ने गाजीपुर के पुलिस अधीक्षक को सूचना दी।

काल डिटेल्स निकालने के बाद पुलिस ने सर्विलांस के जरिए उसकी लोकेशन लेकर डंडापुर में छापेमारी की। यहां किशोर को उठाकर पूछताछ के बाद छोड़ दिया गया। कोतवाल रामायण सिहं ने बताया कि उसने गलती से फोन कर दिया था। नाबालिग होने के चलते पूछताछ के बाद उसे छोड़ दिया गया।