राजकोट वनडेः दक्षिण अफ्रीका ने भारत को 18 रनों से हराया

राजकोटः भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच रविवार को सौराष्ट्र क्रिकेट एसोसिएशन के राजकोट स्टेडियम में खेले गए तीसरे वनडे मुकाबले में मेहमान टीम ने मेजबानों को 18 रनों से हरा दिया है। दक्षिण अफ्रीकी टीम से मिले 271 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी टीम इंडिया आखिरी गेंद तक चार विकेट हाथ में रखते हुए 252 रन बना सकी। भारतीय बल्लेबाजों ने अन्तिम ओवरों में बेहद निराशा पूर्ण प्रदर्शन किया। भारत की ओर से विराट कोहली ने सर्वाधिक 77 रन बनाए।

भारतीय पारी की शुरूआत करने उतरी रोहित शर्मा और शिखर धवन की सलामी जोड़ी ने बेहतरीन आगाज करने की कोशिश की लेकिन शिखर धवन (13) 11वें ओवर में 41 रनों के स्कोर पर विकेटकीपर डिविलियर्स को अपना कैच थमा बैठे। जिसके बाद नबंर तीन पर बल्लेबाजी करने आए विराट कोहली ने रोहित शर्मा के साथ पारी को आगे बढ़ाया। जिसके बाद 23वें ओवर में रोहित शर्मा (65) डुमनी ने अपनी ही गेंद पर कैचकर पवेलियन भेज दिया। जिसके बाद कप्तान धोनी ने नंबर 4 पर आकर विराट कोेहली के साथ 80 रनों की साझेदारी की लेकिन रन बनाने की धीमी गति के चलते यह साझेदारी भारत को जीत से दूर ले जाती दिखी। जिसके दबाव में आकर कप्तान धोनी ने मारने की कोशिश की और 41वें ओवर में अपना स्टेन को अपना कैच थमा बैठे। उस समय भारत का स्कोर 193 रन था। धोनी के आउट होने के बाद भारतीय बल्लेबाजों पर दबाव बढ़ता गया और परिणाम स्वरूप नए बल्लेबाज सुरेश रैना बिना खाता खोले इमरान ताहिर के ओवर में लाॅगआॅन पर मिलर को अपना कैच थमा बैठे। सुरेश रैना की गलती को उनके बाद विराट कोहली (77) और आजिंक्य रहाणे(4) ने भी दोहराया और दोनों ने मोर्केल द्वारा फेंके गए 46वें ओवर की लगातार दो गेंदों में मिलर को अपना कैच थमा दिया। जिसके बाद अक्षर पटेल(15) और हरभजन सिंह (20) रक्षात्मक तरीके से हार के बीच का अंतर कम करते हुए नाबाद लौटे। अंत में भारतीय पारी अपने अंतिम ओवर के खत्म होने पर अपने लक्ष्य से 18 रन दूर नजर आई।

दक्षिण अफ्रीकी गेंदबाज़ी की बात की जाए तो मोर्केल ने बेहतर गेंदबाजी करते हुए सर्वाधिक 4 विकेट लिए जबकि डुमिनी और इमरान ताहिर को एक-एक विकेट मिला।   

इससे पूर्व डिकाॅक और मिलर की सलामी जोड़ी ने अफ्रीका को एक बेहतरीन और सधी हुई 71 रनों की शुरूआत दी। 14वें ओवर में मिलर (33) के आॅउट होने के बाद मैदान में उतरे अमला (5) रन बनाकर चलते बने। अमला के बाद फाॅफ डुप्लेसी ने डिकाॅक के साथ पारी को एक बार फिर आगे बढ़ाया। इस दौरान दोनों ने 122 रनों की साझेदारी करते हुए टीम को 205 रनों के स्कोर तक पहुंचा दिया। जिसके बाद डुप्लेसी (60) मोहित शर्मा की गेंद पर भुवनेश्वर कुमार को अपना कैच थमा बैठे। डुप्लेसी के आउट होने के बाद उम्मीद की जा रही थी कि अगले 12 ओवरों में सात विकेट हाथ में रखते हुए अफ्रीकी टीम आक्रामक अन्दाज में नजर आएगी, जिसे डीकाॅक 40वें ओवर की आखिरी गेंद पर 103 रन बनाकर आउट हो गए। डिकाॅक के आउट होने तक मेहमान टीम का स्कोर 210 हो चुका था। क्रीज पर आक्रामक बल्लेबाजी के लिए मशहूर कप्तान एबी डिविलियर्स और पाउल डुमिनी आ चुके थे। उम्मीद अभी बाकी थी लेकिन डिविलियर्स (4) रन बनाकर अगले ओवर की पहली गेंद पर अपना विकेट गंवा बैठे। जिसके बाद दक्षिण अफ्रीका के बड़े स्कोर की ओर बढ़ने की उम्मीदों को झटका लगा, लेकिन भारतीय गेंदबाजों ने 46वें ओवर की चैथी गेंद पर डुमिनी (14) को भी चलता कर दिया। जिनके आउट होने के बाद बेहारदीन (33) नाबाद को छोड़कर कोई निचले क्रम का कोई बल्लेबाज खास असर नहीं छोड़ सका। बल्लेबाजी के दौरान स्टेन ने भी 12 रन बनाए और रबाडा बिना कोई गेंद खेले नाबाद लौटे।

गेंदबाजी की बात करें तो भारत की ओर से मोहित शर्मा ने 9 ओवर फेक कर 62 रन देकर सर्वाधिक 2 विकेट लिए। हरभजन सिंह, अमित मिश्रा और अक्षर पटेल की फिरकी तिकड़ी को एक-एक विकेट ही मिला। जबकि तेज गेंदबाज भुनेश्वर कुमार 10 ओवर में 65 रन देकर और सुरेश रैना दो ओवर में 13 देकर कोई विकेट हासिल नहीं कर सके।