राम के वियोग में ‘दशरथ’ ने स्टेज पर दम तोड़ा

Dasharatha
राम के वियोग में 'दशरथ' ने स्टेज पर दम तोड़ा

नई दिल्ली। आपने अदाकारी तो बहुत देखी और सुनी होगी लेकिन कभी कभी अदकारी करते वक्त कोई ऐसी घटना हो जाती है जो हकीकत बन जाती है। कुछ ऐसा ही राजस्थान में चल रहे एक रामलीला मंचन मे हुआ। जहां रामलीला के दौरान राम के वनवास जाने के बाद दशरथ का राम के वियोग में सीन चल रहा था। उस दौरान दशरथ का किरदार निभा रहा व्यक्ति इतना भावुक हो गया कि उसने स्टेज पर ही दम तोड़ दिया।

%e0%a4%b0%e0%a4%be%e0%a4%ae %e0%a4%95%e0%a5%87 %e0%a4%b5%e0%a4%bf%e0%a4%af%e0%a5%8b%e0%a4%97 %e0%a4%ae%e0%a5%87%e0%a4%82 %e0%a4%a6%e0%a4%b6%e0%a4%b0%e0%a4%a5 %e0%a4%a8%e0%a5%87 %e0%a4%b8%e0%a5%8d :

यह घटना राजस्थान के झुंझुनू जिले में मंड्रेला कस्बे के निकट कंकड़ेऊ कला इलाके की है, यहां पर वर्षों से रामलीला का मंचन किया जाता है। इस बार रामलीला में कुंदनमल राजा दशरथ का किरदार निभा रहे थे। राम के वनवास जाने के उपरान्त जब राम के वियोग का सीन आया तो कुंदनमल उस सीन में इतना भावुक हो गये कि वो जब मरने की ऐक्टिंग करते हुए स्टेज पर गिरे तो उन्होने अपने प्राण सच मे त्याग दिये।

थोड़ी देर बाद जैसे ही यह जानकारी रामलीला प्रांगण में आये दर्शकों को हुई तो सब दर्शक भी रोने लगे और फिर रामलीला कमेटी द्वारा कुंदनमल का शव उनके घर पंहुचाया गया। जहां अन्तिम दर्शन के लिए सैकड़ो लोग आये। अभी भी किसी को विश्वास नही हो रहा है कि कुंदनमल की ऐसे मौत हो सकती है।

सबसे अचम्भे की बात यह है कि कुंदनमल के भाई जगदीश की भी दशरथ का किरदार निभाने के दौरान 30 साल पहले इसी मंच पर मौत हुई थी। और अब 30 वर्ष बीतने के बाद 65 वर्षीय कुंदनमल की भी किरदार निभाते वक्त मौत हुई। आपको बता दें कि कुंदनमल पिछले 20 सालों से रामलीला में राजा दशरथ का किरदार निभाते आ रहे हैं।

नई दिल्ली। आपने अदाकारी तो बहुत देखी और सुनी होगी लेकिन कभी कभी अदकारी करते वक्त कोई ऐसी घटना हो जाती है जो हकीकत बन जाती है। कुछ ऐसा ही राजस्थान में चल रहे एक रामलीला मंचन मे हुआ। जहां रामलीला के दौरान राम के वनवास जाने के बाद दशरथ का राम के वियोग में सीन चल रहा था। उस दौरान दशरथ का किरदार निभा रहा व्यक्ति इतना भावुक हो गया कि उसने स्टेज पर ही दम तोड़ दिया। यह घटना राजस्थान के झुंझुनू जिले में मंड्रेला कस्बे के निकट कंकड़ेऊ कला इलाके की है, यहां पर वर्षों से रामलीला का मंचन किया जाता है। इस बार रामलीला में कुंदनमल राजा दशरथ का किरदार निभा रहे थे। राम के वनवास जाने के उपरान्त जब राम के वियोग का सीन आया तो कुंदनमल उस सीन में इतना भावुक हो गये कि वो जब मरने की ऐक्टिंग करते हुए स्टेज पर गिरे तो उन्होने अपने प्राण सच मे त्याग दिये। थोड़ी देर बाद जैसे ही यह जानकारी रामलीला प्रांगण में आये दर्शकों को हुई तो सब दर्शक भी रोने लगे और फिर रामलीला कमेटी द्वारा कुंदनमल का शव उनके घर पंहुचाया गया। जहां अन्तिम दर्शन के लिए सैकड़ो लोग आये। अभी भी किसी को विश्वास नही हो रहा है कि कुंदनमल की ऐसे मौत हो सकती है। सबसे अचम्भे की बात यह है कि कुंदनमल के भाई जगदीश की भी दशरथ का किरदार निभाने के दौरान 30 साल पहले इसी मंच पर मौत हुई थी। और अब 30 वर्ष बीतने के बाद 65 वर्षीय कुंदनमल की भी किरदार निभाते वक्त मौत हुई। आपको बता दें कि कुंदनमल पिछले 20 सालों से रामलीला में राजा दशरथ का किरदार निभाते आ रहे हैं।