व्यापमं मामले में एक और मौत…

%e0%a4%b5%e0%a5%8d%e0%a4%af%e0%a4%be%e0%a4%aa%e0%a4%ae%e0%a4%82 %e0%a4%ae%e0%a4%be%e0%a4%ae%e0%a4%b2%e0%a5%87 %e0%a4%ae%e0%a5%87%e0%a4%82 %e0%a4%8f%e0%a4%95 %e0%a4%94%e0%a4%b0 %e0%a4%ae%e0%a5%8c

भोपाल। मध्य प्रदेश के व्यापमं घोटाले में हो रही मौतों पर कुछ महीनों का विराम जरूर लगा था लेकिन एक बार फिर मौत का यह सिलसिला दोबारा शुरू हो गया है। दरअसल, व्यापमं के अधीनस्थ इंडियन फोरेस्ट सर्विस (IFS) के अधिकारी विजय बहादुर की मृत शरीर बीते 15 अक्तूबर को ओडिशा के झारसुगुडा इलाके में रेलवे ट्रैक पर मिला। वे रिटायर व्यूरोक्रेट व्यापमं द्वारा आयोजित दो रिक्रूटमेंट परीक्षाओं के ऑवजर्बर थे।

बताया जा रहा है कि वह अपनी पत्नी के साथ ओडिशा के पूरी में आयोजित 1978 बैच के IFS अधिकारियों के सम्मेलन में शामिल होने गए थे। वापसी के समय ही उनका शरीर मृत अवस्था में मिला।

इस मामले में जीआरपी झारसुगुडा के डीएसपी दिलीप बाग ने बताया प्रथम दृष्टि में बहादुर की मौत चलती ट्रेन से गिरने की वजह से हुई मालूम पड़ती है, लेकिन पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से मौत की वजह का खुलासा हो सकता है। इस मामले की जांच चल रही है।

बहादुर की पत्नी ने नीता ने संदेह व्यक्त करते हुए कहा कि उनके पति ट्रेन के एसी कम्पार्टमेंट के खुले दरवाजे को बंद करने गये उसके बाद वे वहां से वापस नहीं लौटे। नीता के अनुसार, बहादुर रायगढ़ स्टेशन के बाद ही गायब हो गए थे।

आपको बता दें कि रायगढ़ झारसुगुडा से 70 किलोमीटर दूर है। बहादुर की मौत मेडिकल की छात्रा नम्रता दामोर की मौत जैसी है।  नम्रता का शव जनवरी 2012 में उज्जैन इलाके में रेल ट्रैक पर मिला था।

 

 

भोपाल। मध्य प्रदेश के व्यापमं घोटाले में हो रही मौतों पर कुछ महीनों का विराम जरूर लगा था लेकिन एक बार फिर मौत का यह सिलसिला दोबारा शुरू हो गया है। दरअसल, व्यापमं के अधीनस्थ इंडियन फोरेस्ट सर्विस (IFS) के अधिकारी विजय बहादुर की मृत शरीर बीते 15 अक्तूबर को ओडिशा के झारसुगुडा इलाके में रेलवे ट्रैक पर मिला। वे रिटायर व्यूरोक्रेट व्यापमं द्वारा आयोजित दो रिक्रूटमेंट परीक्षाओं के ऑवजर्बर थे।बताया जा रहा है कि वह अपनी पत्नी के साथ…