शीशे से देखते-देखते खूबसूरत मालकिन को कर बैठा प्यार, आगे क्या हुआ खुद ही पढ़िए

रोहतक: हरियाणा पति-पत्नी के बीच अनबन का फायदा उठाकर उनके ही ड्राइवर ने उनकी गृहस्थी उजाड़ दी। जतिन नाम के एक इस ड्राइवर ने पहले तो अपनी मालकिन से एकतरफा इश्क किया और जब उसे लगा कि उसका मालिक दीपक रास्ते का सबसे बड़ा कांटा है तो उसे गोली मार दी। इतना ही नहीं, ड्राइवर ने बहादुरगढ़ में रहने वाली दीपक की बहन के यहां चोरी भी कर डाली। हालांकि ये घटना दीपक के मरने से पहले हुई थी, जिसकी जानकारी दीपक को हो गई थी। दीपक ने जतिन को घर आने से मना कर दिया था, जिससे वह बौखला गया और दीपक को गोली मार दी।

जतिन को जब इस बात का पता चला कि उसकी मालकिन की अपने पति से अनबन है तो उसने इमोशनल सपोर्ट का नाटक कर मालकिन का विश्वास जीत लिया। अपने मालिक की पत्नी की कार चलाने के दौरान वह उससे प्यार करने के साथ शारीरिक संबंध भी बनाना चाहता था। कई बार मौका देख प्रयास भी किया, लेकिन मामला एकतरफा देखकर चुप बैठ गया। जतिन बतौर ड्राइवर की नौकरी करने के दौरान मालकिन से एकतरफा प्यार करता था। इस बारे में दीपक की पत्नी को भनक तक नहीं थी। इसके बाद उसने अपने दोस्त राहुल के साथ मिलकर मालकिन से लाखों रुपए ऐंठ लिए।

दीपक की पत्नी को कभी यह अहसास नहीं हुआ कि जतिन उससे एकतरफा प्यार करता था। इस बीच जतिन लगातार दीपक की पत्नी के कान भरता था। इसमें वह दीपक के खिलाफ बातें करता था। लेकिन देर से ही सही दीपक की पत्नी जतिन की इस मंशा को भांप गई और दूरी बना ली। वहीं दीपक ने भी जतिन के साथ राहुल को भी अपने घर आने से मना कर दिया। दीपक की पत्नी दोनों को दिए कर्ज की रकम लौटाने की बात करने लगी। इन सब बातों से जतिन बौखला गया और वह रास्ते का कांटा दीपक को समझने लगा। और उसने दीपक को रास्‍ते से हटाने की ठान ली।

जतिन ने दीपक की बहादुरगढ़ (झज्‍जर) में रहने वाली बहन के यहां चोरी की। चोरी के रुपयों से जतिन ने एक पिस्तौल खरीदी और उससे दीपक को मौत के घाट उतार दिया। हालांकि मरने से दीपक ने राहुल का नाम ले लिया था| इस जानकारी के बाद पंजाबी बाग थाना पुलिस व पश्चिमी जिला एसटीएफ की संयुक्त टीम ने घटना की तहकीकात शुरु की और आरोपी राहुल व उसके साथियों को दबोच लिया। पश्चिमी जिला पुलिस उपायुक्त पुष्पेंद्र कुमार ने बताया कि आरोपी जतिन सचदेवा मृतक के घर के नजदीक रहता था। मृतक की पत्नी का यह कार चलाया करता था।