सतर्कता अधिष्ठान के आदेश पर नूतन ठाकुर के दो बैंक लॉकर सीज, नूतन ने बताया- एक मेरा नहीं

लखनऊ। निलंबित आईपीएस अफसर अमिताभ ठाकुर के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति मामले में दर्ज एफआईआर के चलते पिछले दिनों जहां सतर्कता अधिष्ठान ने उनके घर पर छापेमारी की थी वहीं अब विभाग के आदेश पर पंजाब नेशनल बैंक के बैंक मैनेजर ने उनकी पत्नी के बैंक लॉकर को सीज कर दिया है। इस बात की जानकारी गुरुवार को अमिताभ ठाकुर ने दी। डॉ. ठाकुर ने सतर्कता विभाग के इस कार्य को विधिविरुद्ध बताया है।  

अमिताभ ठाकुर का कहना है कि 13 अक्टूबर को सतर्कता अधिष्ठान द्वारा ठाकुर के घर की गयी छापेमारी की गयी जिस दौरान उनकी पत्नी के बार-बार कहने के बाद भी इन अफसरों ने उनके लॉकर की तलाशी नहीं ली। गुरुवार को डॉ ठाकुर जब बैंक गयीं तो उन्हें मैनेजर ने बताया कि कल 14 अक्टूबर को सतर्कता अधिष्ठान के दद्दन चौबे ने बैंक में आकर अकेले ही लॉकर सर्च करने की बात कही थी जिसपर मेनेजर ने उन्हें साफ़ कर दिया कि बिना डॉ ठाकुर की उपस्थिति के लॉकर सर्च नहीं किया जा सकता है अथवा लॉकर तोड़ने की लिखित अनुमति होनी चाहिए।

नूतन ठाकुर ने बताया कि गुरुवार को उन्हे चौबे का एक पत्र प्राप्त हुआ है जिसमे उनसे दो लॉकर संख्या बीबी00103 और जीसी 00254 का 20 अक्टूबर से पहले सर्च कराने को कहा गया है। डॉ ठाकुर के अनुसार, एक तो इनमे लॉकर संख्या बीबी00103 उनका है भी नहीं, दूसरे यह बड़ा विचित्र है कि सर्च के दिन ये अफसर बैंक जाने से मना कर रहे थे और बाद में चुपके से विधिविरुद्ध तरीके से सर्च करने बैंक गए थे।

आपको बता दें कि बीते 13 अक्तूबर को सतर्कता अधिष्ठान ने अमिताभ ठाकुर के घरपर छापा मारा था जहां मीडिया द्वारा कुछ सवाल पूछने पर छापा मारने आए अधिकारियों ने बवाल कर दिया था। जिसके बाद छापे के दौरान अनियमितता बरतने के आरोपों को लेकर भ्रष्टाचार निवारण के विशेष न्यायाधीश के समक्ष सर्च टीम को दंडित करने और विवेचना की मॉनीटरिंग करने की मांग वाली अर्जी बुधवार को दी गई थी। कोर्ट ने सतर्कता अधिष्ठान से रिपोर्ट तलब करते हुए मामले की सुनवाई के लिए 16 अक्तूबर तय की है।